कृषि मंत्री तोमर को दिग्विजय सिंह का करारा जवाब, बोले, गोधरा में जो हुआ क्या वो पानी की खेती थी

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का संसद में विवादास्पद बयान, कांग्रेस पर लगाया खून की खेती करने का आरोप

Updated: Feb 05, 2021, 04:59 PM IST

कृषि मंत्री तोमर को दिग्विजय सिंह का करारा जवाब, बोले, गोधरा में जो हुआ क्या वो पानी की खेती थी
Photo Courtesy : Twitter

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर द्वारा कांग्रेस पार्टी के खिलाफ दिए गए विवादास्पद बयान पर करारा पलटवार किया है। कृषि मंत्री केतोमर ने कांग्रेस पर खून की खेती करने का आरोप लगाया तो राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने पलटकर पूछ दिया कि जो गोधरा में हुआ वो क्या पानी की खेती थी? 

दरअसल शुक्रवार को संसद के ऊपरी सदन में केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर कृषि कानूनों के समर्थन में दिए भाषण के दौरान नए कानूनों को न सिर्फ किसानों के लिए बेहद फायदेमंद बताया, बल्कि विपक्ष पर उन्हें गुमराह करने का आरोप भी लगा दिया। अपने इसी भाषण के दौरान कृषि मंत्री ने भरे सदन में कांग्रेस पार्टी के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी कर दी। कृषि मंत्री तोमर ने आरोप लगाया कि कांग्रेस खून की खेती करती है।

नफरत और हिंसा की राजनीति करती आई है बीजेपी : दिग्विजय सिंह  

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर की कांग्रेस के खिलाफ की गई विवादित टिप्पणी का राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह करारा जवाब दिया है। उन्होंने कृषि मंत्री तोमर को 2002 के गुजरात दंगों की याद दिलाते हुए कहा है कि जो गोधरा में हुआ, वो पानी की खेती थी या खून की? दिग्विजय सिंह ने कहा कि बीजेपी हमेशा ही नफरत और हिंसा की राजनीति करती आई है, जबकि कांग्रेस पार्टी सत्य अहिंसा के रास्ते पर चलते आई है। 

तोमर के पास जब खेती नहीं तो किसानी कैसे जानते होंगे : दिग्विजय सिंह 

दिग्विजय सिंह ने कृषि मंत्री के चुनावी हलफनामे का ज़िक्र करते हुए कहा कि नरेंद्र सिंह तोमर के पास खेती की कोई ज़मीन ही नहीं है। और जब उनके खेती की ज़मीन ही नहीं है तो वे किसानी क्या जानते होंगे ? 

 

मुंबई में तैयार किया गया कानूनों का मसौदा : दिग्विजय सिंह

दिग्विजय सिंह ने कृषि कानूनों का ज़िक्र करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने कृषि कानूनों को लेकर किसानों के साथ चर्चा करने के लिए दो मंत्रियों को ज़िम्मेदारी सौंपी। एक नरेंद्र सिंह तोमर जो कि अच्छे इंसान हैं, मेरे प्रांत के हैं, मैं उन्हें अच्छी तरह जानता हूँ। लेकिन जब उनके पास खेती ही नहीं है तो वे किसानी क्या जानते होंगे? दिग्विजय सिंह ने आगे कहा, 'और पीयूष गोयल जो कि कॉर्पोरेट सेक्टर के स्पोक्सपर्सन हैं... और मेरा तो यह आरोप है कि ये तीनों कानून दिल्ली में नहीं, मुंबई में तैयार किए गए हैं।'