ट्रैफिक जाम में फंसा डॉक्टर, कार छोड़ लगाई 3 KM दौड़, अस्पताल पहुंचकर मरीज की सफल सर्जरी की

बेंगलुरु के मणिपाल हॉस्पिटल में डॉक्टर गोविंद नंदकुमार गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी के सर्जन हैं, उन्हें 30 अगस्त को एक महिला मरीज की इमरजेंसी लैप्रोस्कोपिक गॉलब्लैडर सर्जरी करनी थी, हॉस्पिटल जाते वक्त वे जाम में फंस गए

Updated: Sep 12, 2022, 01:03 PM IST

ट्रैफिक जाम में फंसा डॉक्टर, कार छोड़ लगाई 3 KM दौड़, अस्पताल पहुंचकर मरीज की सफल सर्जरी की

बेंगलुरु। बेंगलुरु में ट्रैफिक जाम में फंसे एक डॉक्टर ने अस्पताल में भर्ती मरीज की जान बचाने के लिए पैदल दौड़ लगा दी। रास्ते में ही कार छोड़कर डॉक्टर अस्पताल पहुंचे और उन्होंने मरीज का सफल सर्जरी भी किया। घटना बीते 30 अगस्त की है। 

दरअसल, बेंगलुरु के मणिपाल हॉस्पिटल में डॉक्टर गोविंद नंदकुमार गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी के सर्जन हैं। उन्हें 30 अगस्त को एक महिला मरीज की इमरजेंसी लैप्रोस्कोपिक गॉलब्लैडर सर्जरी करनी थी। वह घर से तो समय पर निकले थे, लेकिन जाम में फंस गए। उधर उनकी टीम अस्पताल में मरीज के ऑपरेशन की तैयारी पूरी कर चुकी थी। लेकिन डॉक्टर सरजापुर-माराथल्ली के बीच लगे जाम के कारण नहीं आ पाए थे।

यह भी पढ़ें: इंदौर कृषि महाविद्यालय के जमीन का नहीं होगा अधिग्रहण, विरोध के बाद बैकफुट पर सरकार

जाम में फंसे हुए उन्हें काफी समय हो चुका था। उनकी महिला मरीज का ऑपरेशन तय समय पर करना बेहद जरूरी था क्योंकि अगर इसमें देरी होती तो उसकी तबीयत और बिगड़ सकती थी। इससे उसे आगे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता। इन्हीं सब बातों को लेकर डॉक्टर गोविंद चिंतित थे। लेकिन वह कुछ कर नहीं पा रह थे। ऐसे में उन्होंने अपनी कार वहीं छोड़ अस्पताल के लिए दौड़ लगा दी।

डॉक्टर गोविंद 3 किलोमीटर दौड़ लगाकर अस्पताल पहुंचे और उन्होंने मरीज की सफल सर्जरी की। जैसे ही डॉक्टर गोविंद ऑपरेशन थिएटर के अंदर घुसे तो उनकी टीम ने मरीज को बेहोश करने के लिए एनस्थीसिया दे दिया। डॉक्टर ने समय पर महिला मरीज का ऑपरेशन किया। उसका ऑपरेशन सफल रहा और उन्हें समय पर अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। महिला को पिछले काफी समय से गॉल ब्लैडर में समस्या थी।