मीडिया समूहों पर छापा, कांग्रेस बोली- और कितना गला घोटेंगे, सरकार बोली- हम दखल नहीं देते

मीडिया संस्थानों पर आयकर छापे के मामले में केंद्र सरकार का स्पष्टीकरण, सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर बोले- एजेंसियां अपना काम करती हैं, हम हस्तक्षेप नहीं करते

Updated: Jul 22, 2021, 06:11 PM IST

मीडिया समूहों पर छापा, कांग्रेस बोली- और कितना गला घोटेंगे, सरकार बोली- हम दखल नहीं देते
Photo Courtesy : The news minute

नई दिल्ली। देश के दो प्रतिष्ठित मीडिया समूहों पर इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के छापे का मामला तूल पकड़ता जा रहा है। कांग्रेस ने इस घटना को लेकर तल्ख टिप्पणी करते हुए कहा है कि मीडिया का और कितना गला घोंटेगे। अब केंद्र सरकार ने भी इस घटना को लेकर स्पष्टीकरण दिया है। केंद्र सरकार ने इस मामले में अपनी संलिप्तता से साफ इनकार करते हुए कहा है कि एजेंसियां अपना काम करती हैं।

संसद के दोनों सदनों में हंगामे के बाद केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा, 'जांच एजेंसियां अपना काम करती हैं, केंद्र सरकार उनके कामकाज में किसी भी तरह का हस्तक्षेप नहीं करती। मैं यह भी कहना चाहूंगा कि किसी भी घटना को लेकर पूरी जानकारी लेनी चाहिए। कई बार जो दिखाया जा रहा है वो जरूरी नहीं कि सत्य ही हो। जानकारी की कमी भ्रम पैदा करती है।'

यह भी पढ़ें: पेगासस को लेकर राज्यसभा में टकराव, TMC सांसद ने मंत्री वैष्णव के हाथ से पेपर छीनकर फाड़ा

कब तक सच पर बेड़ियां रहेंगी- सुरजेवाला

इस छापेमार कार्रवाई को लेकर विपक्षी नेताओं ने केंद्र को जमकर खरी खोटी सुनाई है। कांग्रेस महासचिव रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया, 'कितना और गला घोटेंगे मीडिया का? कितनी और दबिश मानेगा मीडिया? कब तक सच पर सत्ता की बेड़ियाँ रहेंगी?’आज यह देख अथाह दुःख हुआ कि TV के साथी आज भी दैनिक भास्कर-भारत समाचार पर “रेड राज” के ख़िलाफ़ डिबेट नही करवा रहे?।अब भी नही तो कब?' 

इस घटना को टीएमसी सुप्रीमो व बंगाल सीएम ममता बनर्जी ने लोकतंत्र को कुचलने का प्रयास करार दिया है। सीएम ममता ने कहा की कोरोना काल में जिन मीडिया घरानों ने हकीकत दिखाई उनपर बदले की भावना से केंद्र की मोदी सरकार कार्रवाई कर रही है।

यह भी पढ़ें: रोहिंग्या कैम्पों पर योगी सरकार ने चलाया बुलडोज़र, खाली कराई दो हेक्टेयर से ज़्यादा की ज़मीन

राजस्थान सीएम अशोक गहलोत ने कहा कि, 'दैनिक भास्कर अखबार और भारत समाचार न्यूज़ चैनल के कार्यालयों पर इनकम टैक्स का छापा मीडिया को दबाने का एक प्रयास है। मोदी सरकार अपनी रत्तीभर आलोचना भी बर्दाश्त नहीं कर सकती है। यह भाजपा की फासीवादी मानसिकता है जो लोकतंत्र में सच्चाई का आइना देखना भी पसंद नहीं करती है। ऐसी कार्रवाई कर मोदी सरकार मीडिया को दबाकर संदेश देना चाहती है कि यदि गोदी मीडिया नहीं बनेंगे तो आवाज कुचल दी जाएगी।' 

समाजवादी पार्टी ने इस कार्रवाई को लेकर कहा, 'डरपोक सत्ता जब घबराती है, ED, IT, टैक्स CBI से डराती है! सच की स्याही से सरकारों के भ्रष्टाचार, कोरोना कुप्रबंधन, बदइंतजामी से हुए नरसंहार, झूठे दावे, हवाहवाई घोषणाओं की पोल खोलने वाले मीडिया संस्थान दैनिक भास्कर, भारत समाचार के ठिकानों पर देशव्यापी इनकम टैक्स के छापे  निंदनीय!' 

दरअसल, इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने टैक्स चोरी के आरोप में दो प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों दैनिक भास्कर और उत्तर प्रदेश के न्यूज़ चैनल भारत समाचार के विभिन्न ठिकानों पर आज सुबह दबिश दी। विभाग की टीमें इन संस्थाओं के दिल्ली, मध्य प्रदेश, लखनऊ, महाराष्ट्र, गुजरात और राजस्थान स्थित दफ्तरों पर पहुंची हैं और पड़ताल कर रही है। माना जा रहा है कि कोरोना काल के दौरान इन संस्थाओं ने सरकारी मिसमैनेजमेंट के खिलाफ निर्भीकता से रिपोर्टिंग की है। यह दबिश इसी का नतीजा है।