मांझी के घर पर बढ़ाई गयी सुरक्षा, बोले मांस मदिरा का सेवन करने वाले पंडितों के खिलाफ बोलता रहूंगा

जीतन राम मांझी के पंडितों को लेकर दिये बयान पर मचा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है, इस बीच उन्होंने पंडितों को लेकर एक और बयान दे दिया है

Updated: Dec 22, 2021, 06:46 PM IST

मांझी के घर पर बढ़ाई गयी सुरक्षा, बोले मांस मदिरा का सेवन करने वाले पंडितों के खिलाफ बोलता रहूंगा

पटना। पंडितों को लेकर दिये बयान को लेकर बिहार के पूर्व सीएम जीतन राम मांझी इन दिनों काफी सुर्खियों में हैं। इसी बीच जीतन राम मांझी ने पंडितों को लेकर एक और बयान दे दिया है। जीतन राम मांझी ने कहा है कि वे मांस मदिरा का सेवन करने वाले पंडितों के खिलाफ बोलते रहेंगे। जबकि मांझी के पटना स्थित आवास के बाहर सुरक्षा बढ़ा दी गयी है। 

बुधवार को हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख मांझी ने मीडिया से बात करते हुये कहा कि वे ब्राह्मणों नहीं बल्कि ब्राह्मणवाद के खिलाफ हैं। मांझी ने कहा कि वे मांस मदिरा का सेवन करने वाले और गरीबों को मूर्ख बनाने वाले पुजारियों के खिलाफ बोलते रहेंगे। मांझी ने कहा कि वे ऐसे लोगों के खिलाफ बोलने से कभी पीछे नहीं हटेंगे। 

यह भी पढ़ें ः गजेंद्र झा बीजेपी से निष्कासित, मांझी की ज़ुबान काटने पर की थी 11 लाख के इनाम की घोषणा

जीतन राम मांझी के बयान के बाद मचे बवाल और जगह जगह हो रहे विरोध को देखते हुये उनके पटना स्थित आवास के आवास के बाहर सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है। कुछ ब्राह्ममण संगठनों ने मांझी के घर के बाहर प्रदर्शन और पूजा पाठ करने की घोषणा की थी। जिसके बाद उनके आवास को छावनी में तब्दील कर दिया गया है।  

जीतन राम मांझी ने हाल ही में पटना में आयोजित एक सम्मेलन के दौरान कहा था कि पंडित निचली जातियों के घर सत्यनारायण पूजा करवाने तो जाते हैं लेकिन उनके घर भोजन नहीं करते। वे सिर्फ दक्षिणा लेकर चले आते हैं। मांझी ने ऐसे पंडितों से बचने की सलाह दी थी। हालांकि उस दौरान उन्होंने पंडितों को लेकर अपशब्द का भी उपयोग कर दिया था। 

यह भी पढ़ें ः मांझी की जीभ काटने पर भाजपा नेता ने किया इनाम का एलान, HAM बोली मां का दूध पिया है तो काटकर दिखाए

मांझी के उस बयान ने जल्द ही विवाद का रुप ले लिया और जगह जगह मांझी के पुतले भी फूंके जाने लगे। विवाद बढ़ता देख जीतन राम मांझी ने अपने बयान पर स्पष्टीकरण देते हुये कहा था कि वे अपने समाज के लोगों को खरी खोटी सुना रहे थे। 

यह भी पढ़ें ः निचली जातियों के घर दक्षिणा लेने आते हैं पंडित नहीं खाते खाना, जीतन राम मांझी के बयान पर मचा बवाल

हालांकि मांझी के स्पष्टीकरण के बावजूद विवाद नहीं थमा और बीजेपी के नेता गजेंद्र झा ने मांझी का ज़ुबान काट कर लाने वाले व्यक्ति को ग्यारह लाख रुपए का इनाम देने की घोषणा कर दी। बीजेपी नेता के इस बयान पर मांझी की पार्टी ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुये बीजेपी को चेतावनी दे डाली। हम के प्रवक्ता दानिश रिज़वान ने कहा कि यदि बीजेपी अपने नेताओं पर लगाम नहीं लगाती है तो बीजेपी को बुरे परिणाम भुगतने होंगे। हम की तरफ से कड़े तेवर को देखने के बाद बीजेपी ने गजेंद्र झा को पार्टी से निष्कासित कर दिया।