Rafale Induction: राफेल की हुई वायुसेना में एंट्री, वाटर कैनन की सलामी

Rafale Induction Ceremony Updates: इस ख़ास दिन पर अंबाला एयरबेस पर हुआ फ्लाईपास्ट, राफेल ने अंबाला के आसमान में दिखाई अपनी ताकत

Updated: Sep 10, 2020 11:38 AM IST

Rafale Induction: राफेल की हुई वायुसेना में एंट्री, वाटर कैनन की सलामी
Photo Courtesy: ANI

नई दिल्ली। फ्रांस से खरीदे गए अत्याधुनिक लड़ाकू विमान राफेल आज औपचारिक रूप से वायु सेना के लड़ाकू विमानों के बेड़े में शामिल हो गए। अंबाला एयरबेस पर आज सुबह आयोजित कार्यक्रम में एयरफोर्स को 5 राफेल सौंप दिए गए। इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और फ्रांस की डिफेंस मिनिस्टर फ्लोरेंस पार्ले की मौजूदगी में सर्वधर्म पूजा की गई। उसके बाद एयर-शो हुआ। लैंडिंग के बाद राफेल को वॉटर कैनन सैल्यूट दिया गया।

अत्याधुनिक लड़ाकू विमानों की कमी का सामना कर रही भारतीय वायु सेना के लिए राफेल का मिलना महत्वपूर्ण माना जा रहा है। इस ख़ास दिन पर अंबाला एयरबेस पर फ्लाईपास्ट हुआ। राफेल ने अंबाला के आसमान में अपनी ताकत दिखाई। उनके साथ सुखोई और जगुआर ने भी उड़ान भरी।

फ्लाईपास्ट में देश में निर्मित तेजस लड़ाकू विमान ने भी अपना करतब दिखाया रंग-बिरंगे हेलीकॉप्टर सारंग ने भी राफेल के भारतीय वायुसेना में शामिल होने का जश्न मनाया और अपना करतब दिखाया। 

Click:  Rafale in India: अंबाला में लैंड हुए राफेल विमान

ग़ौरतलब है कि फ्रांस से 7 हजार किलोमीटर का सफ़र पूरा कर 5 राफेल लड़ाकू विमान बुधवार 3 अगस्त दोपहर करीब 3.15 बजे अंबाला एयरबेस पर उतरे थे। वायुसेना प्रमुख एयरचीफ मार्शल आरकेएस भदाैरिया समेत वेस्टर्न एयर कमांड के अधिकारियों ने राफेल की अगवानी की थी। अंबाला एयरबेस पर 17वीं गोल्डन एरो स्क्वॉड्रन राफेल की पहली स्क्वॉड्रन बनाई गई है। जब राफेल की टुकड़ी ने भारत के एयरस्पेस में प्रवेश किया, तब उसका आईएनएस कोलकाता से संपर्क हुआ। नौसेना के इस जहाज ने राफेल की टुकड़ी से संपर्क साधा और कहा- ‘एरो लीडर, हिंद महासागर में आपका स्वागत है। हैप्पी लैंडिंग, हैप्पी हंटिंग।’ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल की लैंडिंग के तुरंत बाद ट्वीट किया। उन्होंने लिखा- भारत की सरजमीं पर राफेल का उतरना सैन्य इतिहास में एक नए युग की शुरुआत है।