गहलोत कैबिनेट में चार दलित मंत्री, सचिन पायलट बोले- कैबिनेट पर प्रियंका गांधी की छाप

राजस्थान कैबिनेट में दिखेगी जीजा-साले की जुगलबंदी, भंवर सिंह भाटी और राजेंद्र सिंह गुढ़ा दोनों बनेंगे मंत्री, सभी जातियों को मिला प्रतिनिधित्व, पायलट बोले- इससे अच्छा संदेश जा रहा है

Updated: Nov 21, 2021, 01:29 PM IST

गहलोत कैबिनेट में चार दलित मंत्री, सचिन पायलट बोले- कैबिनेट पर प्रियंका गांधी की छाप

जयपुर। राजस्थान में सरकार बनने के करीब 2 साल 11 महीने बाद गहलोत कैबिनेट में आज बड़ा फेरबदल होने वाला है। नए मंत्रियों के शपथ के बाद गहलोत कैबिनेट में सभी जाति और वर्गों का प्रतिनिधित्व होगा। खास बात यह है कि गहलोत सरकार में पहली बार चार दलितों को मंत्री बनाया जा रहा है। इस बार पायलट समर्थकों को भी विशेष तवज्जो दी गई है। 

सचिन पायलट ने कैबिनेट फेरबदल को लेकर खुशी जताते हुए कहा है कि इसमें प्रियंका गांधी की छाप है। सचिन पायलट ने कहा कि कैबिनेट में फेरबदल से जनता के बीच अच्छा संदेश जा रहा है और निश्चित ही इससे कांग्रेस पार्टी को फायदा मिलेगा। उन्होंने गुटबाजी से इनकार करते हुए कहा कि पार्टी पूरी तरह एकजुट है। पायलट ने कहा कि विस्तृत चर्चा और व्यापक दृष्टिकोण को ध्यान में रखकर ही मंत्रिमंडल में फेरबदल का फैसला किया गया है और इसके लिए मैं हाईकमान को धन्यवाद देता हूं।

यह भी पढ़ें: राजस्थान: मंत्रिमंडल का पुनर्गठन आज, 15 नए मंत्री लेंगे शपथ, यहां देखें लिस्ट

इस बार तीन दलित नेताओं ममता भूपेश, भजनलाल जाटव, टीकाराम जूली को राज्य मंत्री से प्रमोट कर कैबिनेट मंत्री बनाया है। कैबिनेट में पूर्व से मौजूद गोविंद मेघवाल को मिलाकर चार दलित चेहरे हो गए हैं। गहलोत कैबिनेट में पहली बार 4 दलित मंत्री बनाए गए हैं। साथ ही महिलाओं के प्रतिनिधित्व पर भी विशेष ध्यान दिया गया है। राजस्थान में तीन महिलाएं मंत्री पद संभालेंगी।

जातिगत समीकरण को देखा जाए तो हाई कमान ने इस बार इसे साधने की पूरी कोशिश की है। नए मंत्रिमंडल में अब जाट समाज से पांच तो राजपूत और गुर्जर समाज से तीन-तीन मंत्री होंगे। इसके साथ ही ब्राह्मण समाज से दो मंत्री, मुस्लिम समुदाय से दो मंत्री होंगे। इसके अलावा वैश्य समुदाय से तीन, एससी वर्ग से चार मंत्री और एसटी वर्ग पांच मंत्री होंगे। एक यादव, एक विश्नोई और एक माली जाति के नेता को भी मंत्री पद दिया गया है।

यह भी पढ़ें: हिंदू महासभा ने अब PM मोदी के लिए उगला जहर, कहा- जिसकी बात एक नहीं, उसका बाप एक नहीं

शपथ ग्रहण के बाद राजस्थान सरकार में एक और भी जुगलबंदी दिखेगी। यह जुगलबंदी होगी सरकार में जीजा-साले की जोड़ी की। दरअसल, भंवर सिंह भाटी और राजेंद्र सिंह गुढ़ा दोनों ही मंत्रिमंडल का हिस्सा हो जाएंगे। ये दोनों नेताओं के बीच आपस में जीजा-साले का रिश्ता। राजेन्द्र सिंह गुढ़ा की बहन की सगी बहन की शादी भंवर सिंह भाटी के साथ हुई है। हालांकि, भाटी पहले से ही कैबिनेट का हिस्सा हैं, राजेंद्र सिंह गुढ़ा को पहली बार मंत्री पद मिलने जा रहा है।