सिंधिया ने नीतीश कुमार को एक नहीं 10 बार किया कॉल, बिहार सीएम ने नहीं की बात: बीजेपी सांसद का दावा

भाजपा के राज्यसभा सांसद विवेक ठाकुर के अनुसार, केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ने बिहार के मुख्यमंत्री को एक-दो बार नहीं, कुल 10 बार कॉल किया, लेकिन एक बार भी वे बात करने के लिए उपलब्ध नहीं हो सके।

Updated: Sep 29, 2022, 10:19 AM IST

सिंधिया ने नीतीश कुमार को एक नहीं 10 बार किया कॉल, बिहार सीएम ने नहीं की बात: बीजेपी सांसद का दावा

पटना। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया ने बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को कई बार फोन किया। लेकिन मुख्‍यमंत्री ने एक बार भी केंद्रीय मंत्री से बात करने के लिए फोन पर नहीं आए। यह दावा बीजेपी के राज्यसभा सांसद विवेक ठाकुर ने किया है। विवेक ठाकुर के अनुसार, केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ने बिहार के मुख्यमंत्री को एक-दो बार नहीं, कुल 10 बार कॉल किया, लेकिन एक बार भी वे बात करने के लिए उपलब्ध नहीं हो सके।

बीजेपी नेता और राज्यसभा सांसद विवेक ठाकुर ने कहा कि प्रगतिशील राज्य के मापदंडों में एक महत्वपूर्ण कड़ी होता है की राज्य में कितने और किस कैटेगरी के एयरपोर्ट हैं। इस दिशा में भी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के संकुचित सोच के चलते बिहार काफी पीछे है। उनका लचर रवैया के कारण बिहटा में बनने वाले आधुनिकतम कैट 3 स्तर का अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट तथा केंद्र सरकार के उड़ान परियोजना के अंतर्गत बिहार में बनने वाले अन्य एयरपोर्ट अधूरा है।

यह भी पढ़ें: सबसे पहले RSS पर प्रतिबंध लगे, यह PFI से भी बुरा संगठन है: संघ के खिलाफ विपक्ष ने खोला मोर्चा

विवेक ठाकुर ने कहा कि जब बिहटा एयरपोर्ट और उड़ान परियोजना के परिपेक्ष्य में केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से मिलने के लिए गया तो उन्होंने अचंभित होकर कहा कि कैसे बिहार में विकास होगा, हमने 10 बार से अधिक कोशिश किया मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात करने का, लेकिन वे कभी फोन पर आए ही नहीं। नीतीश कुमार के इस रवैये से स्पष्ट होता है कि उन्हें बिहार के विकास से कोई वास्ता नहीं है।

विवेक ठाकुर ने कहा कि बिहटा एयरपोर्ट के निर्माण के लिए दूसरे चरण का जमीन अधिग्रहण का प्रस्ताव ढाई साल से बिहार सरकार द्वारा लंबित है, जबकि जमीन उपलब्ध है। उसी प्रकार मुजफ्फरपुर का पताही एयरपोर्ट को दोबारा स्थापित करने के लिए केंद्र ने 60 करोड़ रुपए जारी किए, लेकिन स्थिति जस-की-तस बनी हुई है। साथ ही बिहार सरकार की उदासीनता के कारण बिहार के भागलपुर, फॉरबिसगंज आदि एयरपोर्ट बंद पड़े हैं। उन्होंने कहा कि सभी एयरपोर्ट का खर्च केंद्र सरकार उठाती है, राज्य सरकार का काम सिर्फ जमीन उपलब्ध कराना होता है। पर, नीतीश कुमार जमीन भी उपलब्ध नहीं करा पा रहे हैं।