कांग्रेस का मजबूत होना लोकतंत्र के लिए जरूरी, देश की सबसे पुरानी पार्टी को लेकर नितिन गडकरी का बयान

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि लोकतंत्र दो पहियों पर चलता है सत्तापक्ष और विपक्ष, हमारी कामना है कि विपक्षी दल कांग्रेस मजबूत बने, कांग्रेस नेताओं को हार से निराश नहीं होना चाहिए

Updated: Mar 29, 2022, 09:01 AM IST

कांग्रेस का मजबूत होना लोकतंत्र के लिए जरूरी, देश की सबसे पुरानी पार्टी को लेकर नितिन गडकरी का बयान
Photo Courtesy: Mint

पुणे। बीजेपी के दिग्गज नेता व केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने देश की सबसे मजबूत पार्टी कांग्रेस को लेकर बड़ा बयान दिया है। गडकरी ने कहा है कि कांग्रेस का मजबूत होना लोकतंत्र के लिए जरूरी है। इस दौरान गडकरी ने पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू की भी खुलकर तारीफें की।

दरअसल, नितिन गडकरी शनिवार को पुणे में आयोजित लोकमत पत्रकारिता अवॉर्ड्स कार्यक्रम में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि, 'लोकतंत्र दो पहियों पर चलता है- सत्तापक्ष और विपक्ष। लोकतंत्र के लिए मजबूत विपक्ष एक जरूरत है, इसलिए ये मेरी कामना है कि कांग्रेस मजबूत बने। कांग्रेस के कमजोर होने पर इसकी जगह क्षेत्रीय पार्टियां ले रही हैं, जो लोकतंत्र के लिए सही नहीं है।'

यह भी पढ़ें: बंगाल विधानसभा में जूतम-पैजार, BJP MLA हुए चोटिल, शुभेंदु अधिकारी समेत पांच निलंबित

गडकरी ने आगे कहा कि जवाहरलाल नेहरु एक उदाहरण हैं। जब अटल बिहारी वाजपेयी लोकसभा चुनाव हार गए थे तो नेहरु फिर भी उनका सम्मान करते थे। एक लोकतंत्र में विपक्ष की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने वो वक्त भी याद किया जब बीजेपी संसद में बस 2 सीटें जीत पाई थी। उन्होंने कहा, 'पार्टी कार्यकर्ताओं की मेहनत से वक्त बदला, और हमें अटल बिहारी वाजपेयी के रूप में प्रधानमंत्री मिला। ऐसे में निराशा में किसी को अपनी विचारधारा नहीं छोड़नी चाहिए।

नितिन गडकरी ने आगे कहा कि, 'मैं पूरे दिल से चाहता हूं कि कांग्रेस मजबूत बनी रहे। जो लोग कांग्रेस की विचारधारा का अनुसरण करते हैं, उन्हें पार्टी के साथ बने रहना चाहिए। उन्हें काम करते रहना चाहिए और हार से निराश नहीं होना चाहिए। अगर हार है तो एक दिन जीत भी होगी।' गडकरी की टिप्पणियां इसलिए अहम हैं क्योंकि उनकी पार्टी और स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर मौकों पर 'कांग्रेस मुक्त भारत' नारे लगाने से नहीं चूकते। लेकिन गडकरी ने स्पष्ट किया कि बीजेपी में होने के बावजूद वे एकतंत्र का समर्थन नहीं करते।