दाढ़ी बनाने के लिए चाय वाले ने मोदी को भेजा 100 रुपए का मनीऑर्डर, बोला- रोजगार बढ़ाएं, दाढ़ी नहीं

चाय बेचकर परिवार का गुजर-बसर करने वाले महाराष्ट्र के अनिल मोरे ने अपनी कमाई से प्रधानमंत्री मोदी को किया आर्थिक मदद, दाढ़ी बनाने के लिए भेजा 100 रुपए का मनीऑर्डर

Updated: Jun 11, 2021, 01:19 AM IST

दाढ़ी बनाने के लिए चाय वाले ने मोदी को भेजा 100 रुपए का मनीऑर्डर, बोला- रोजगार बढ़ाएं, दाढ़ी नहीं
Photo Courtesy: New Indian Express

बारामती। महाराष्ट्र के एक चाय वाले ने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आर्थिक मदद पहुंचाई है। चाय बेचकर अपने परिवार का पेट पालने वाले बारामती के अनिल मोरे ने मोदी को अपनी गाढ़ी कमाई से 100 रुपए का मनीऑर्डर भेजा है। मोरे ने पीएम को ये पैसे दाढ़ी बनाने के लिए भेजा है। उन्होंने मनीऑर्डर के साथ पीएम मोदी को एक खत भी लिखा है, जिसमें पीएम को सलाह दी है कि कुछ बढ़ाना है तो रोजगार बढ़ाएं दाढ़ी नहीं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक अनिल मोरे महाराष्ट्र के बारामती में एक प्राइवेट हॉस्पिटल में अपनी चाय का दुकान लगाते हैं। कोरोना महामारी की वजह से पिछले डेढ़ साल से उनका धंधा चौपट हो चुका है। स्थिति यह है कि वे बमुश्किल अपने परिवार का पेट भर पा रहे हैं। इसी बात को लेकर उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से कुछ अनुरोध किया है। मोरे को उम्मीद है कि मोदी एक चाय बेचने वाले कि अपील नहीं ठुकराएंगे।

यह भी पढ़ें: लड़कियों को न दें मोबाइल, बॉयफ्रेंड के साथ भाग जाती हैं, यूपी महिला आयोग की मेंबर का विवादित बयान

अनिल मोरे का कहना है कि, 'कोरोना काल में देश के लाखों लोगों का धंधा चौपट हो गया है। रोजगार के अवसर खत्म हो गए। ऐसे में प्रधानमंत्री को रोजगार के अवसरों पर ध्यान देना चाहिए और ज्यादा से ज्यादा रोजगार उपलब्ध कराना चाहिए। इस नाजुक वक्त में पीएम मोदी को कुछ बढ़ाना है तो रोजगार बढ़ाने पर ध्यान दें, दाढ़ी नहीं बढ़ाएं।'

अनिल ने बताया कि उन्होंने अपनी गाढ़ी कमाई से पीएम मोदी को 100 रुपए भेजा है, ताकि प्रधानमंत्री अपनी दाढ़ी बनवा सकें। अनिल ने कहा, 'नरेंद्र मोदी देश के सर्वोच्च नेता हैं और उनके लिए हमारे मन में आदर है। हमारा उद्देश्य उन्हें परेशान करने का बिल्कुल नहीं है।' अनिल ने पीएम से अनुरोध किया है की कोरोना मृतकों को पांच लाख रुपए भेजे जाएं।

दरअसल, पिछले साल कोरोना के दस्तक देते ही मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन लागू हो गया था। इस दौरान काफी दिनों तक सैलून नहीं खुलने की वजह से लोगों के बाल-दाढ़ी खूब बढ़ गए थे। हैरानी की बात यह है कि तमाम सुविधाएं होते हुए भी पीएम मोदी तक ने अपनी दाढ़ी बढ़ाना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं लॉकडाउन खुलने के बाद भी मोदी अपनी दाढ़ी बढते गए। 

यह भी पढें: रामदेव ने मारी पलटी, खुद भी कोरोना वैक्सीन लेंगे, डॉक्टरों को बताया भगवान का दूत

राजनीतिक पंडितों ने अनुमान लगाया कि बंगाल चुनाव को देखते हुए स्ट्रेटजी के साथ पीएम मोदी अपनी दाढ़ी बढ़ा रहे हैं। इसके पीछे तर्क दिया गया कि वह दाढ़ी बढ़ाकर रवींद्र नाथ टैगोर जैसे दिखना चाहते हैं ताकि बंगाल के मतदाताओं को आकर्षित कर सकें। हालांकि, चुनाव नतीजों पर मोदी की दाढ़ी का ज्यादा फर्क नहीं पड़ा और पश्चिम बंगाल में बीजेपी की बुरी तरह हार हुई।

इधर चुनाव नतीजों के आए अब एक महीने से ज्यादा हो गए हैं, बावजूद उन्होंने अपनी दाढ़ी नहीं बनाई है। हालांकि, देखने से यह जरूर प्रतीत होता है कि वह नियमित रूप से अपनी दाढ़ी सेट करवाते हैं। बहरहाल अब चाय वाले की अपील और उसके पैसों से प्रधानमंत्री मोदी दाढ़ी बनवाते हैं या नहीं ये तो वक़्त ही बताएगा।