व्हाट्सएप के इंडिया हेड अभिजीत बोस और मेटा के पब्लिक पॉलिसी हेड राजीव अग्रवाल ने दिया इस्तीफा

मेटा ने एक बयान में कहा कि व्हाट्सएप के भारत प्रमुख अभिजीत बोस ने इस्तीफा दे दिया है। वहीं, राजीव अग्रवाल ने बेहतर मौके की तलाश में मेटा में अपनी भूमिका से हटने का फैसला किया है।

Updated: Nov 16, 2022, 08:47 AM IST

व्हाट्सएप के इंडिया हेड अभिजीत बोस और मेटा के पब्लिक पॉलिसी हेड राजीव अग्रवाल ने दिया इस्तीफा

नई दिल्ली। एलन मस्क द्वारा ट्विटर अधिग्रहण के बाद सोशल मीडिया जगत में छंटनी का दौर शुरू हो गया है। मेटा ने पिछले हफ्ते ही अपने 11 हजार कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखा दिया। वहीं, अब भारत से भी बड़ी खबर सामने आई है। व्हाट्सएप के इंडिया हेड अभिजीत बोस ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। साथ ही मेटा के पब्लिक पॉलिसी हेड राजीव अग्रवाल ने भी इस्तीफा दे दिया है।

अचानक दोनों इस्तीफों के बाद कंपनी ने भारत में व्हाट्सएप पब्लिक पॉलिसी के निदेशक शिवनाथ ठुकराल को भारत में मेटा के सभी प्लेटफॉर्म के लिए पब्लिक पॉलिसी निदेशक बनाया गया है। व्हाट्सएप के चीफ विल काठकार्ट ने प्रेस नोट जारी कर इसकी जानकारी दी।

विल काठकार्ट ने बताया कि शिव ठकुराल को मेटा का पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर नियुक्त किया जा रहा है। वह अबतक सिर्फ व्हाट्सएप इंडिया के पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर थे। लेकिन अब मेटा इंडिया के पब्लिक पॉलिसी डायरेक्टर बनने के बाद वह फेसबुक, इंस्टाग्राम और वॉट्सऐप तीनों के प्रमुख होंगे। बता दें कि मेटा फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप की पेरेंट कंपनी है।

यह भी पढ़ें: फेसबुक की पेरेंट कंपनी मेटा ने 11 हजार कर्मचारियों को नौकरी से निकाला, जुकरबर्ग ने मांगी माफी

राजीव अग्रवाल के बारे में विल काठकार्ट ने बताया कि वह नए अवसर की तलाश में इस्तीफा दे रहे हैं। मेटा के लिए ये इस्तीफे वैसे किसी झटके से कम नहीं हैं। इसी महीने तीन नवंबर को मेटा इंडिया के भारतीय प्रमुख अजीत मोहन ने इस्तीफा दे दिया था। वह चार साल तक मेटा से जुड़े रहे थे. जानकारी आई थी कि अजीत मोहन मेटा के प्रतिद्वंद्वी स्नैप इंडिया को ज्वाइन करने वाले हैं।

बता दें कि दुनिया में मंदी का असर देखा जाने लगा है। एक के बाद एक बड़ी कंपनियां छंटनी कर रही हैं। सोमवार को खबर आई कि अब अमेजन इस सप्ताह जल्द से जल्द 10,000 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल सकती है। कंपनी इस कदम के पीछे लाभ कमाने में फेल रहने का हवाला दिया है। अगर छंटनी की कुल संख्या 10 हजार के आसपास रहती है, तो यह अमेज़न के इतिहास में सबसे बड़ी छंटनी होगी।