फेसबुक की पेरेंट कंपनी मेटा ने 11 हजार कर्मचारियों को नौकरी से निकाला, जुकरबर्ग ने मांगी माफी

हम यहां कैसे पहुंचे, मैं इसकी जवाबदेही लेता हूं। मुझे पता है कि यह सभी के लिए कठिन है, और जो लोग इससे प्रभावित हुए हैं, उनके लिए मुझे खेद है: जुकरबर्ग

Updated: Nov 10, 2022, 02:59 PM IST

फेसबुक की पेरेंट कंपनी मेटा ने 11 हजार कर्मचारियों को नौकरी से निकाला, जुकरबर्ग ने मांगी माफी

कैलिफोर्निया। ट्विटर के बाद अब दिग्गज सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने बड़े पैमाने पर छंटनी की घोषणा की है। फेसबुक की मूल कंपनी मेटा (Meta) ने 11,000 से अधिक कर्मचारियों की नौकरी से निकाल दिया है। कंपनी ने बुधवार को इसका ऐलान किया। इस घोषणा के बाद मार्क जुकरबर्ग ने लोगों से माफी भी मांगी है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक मार्क जुकरबर्ग ने मंगलवार को ही अपने एग्जिक्यूटिव्स के साथ एक मीटिंग में उन्हें छंटनी के लिए तैयार रहने को कहा था। कंपनी में नई भर्तियों पर तो पहले से ही रोक लगाई जा चुकी है। छंटनी के बाद मेटा के CEO मार्क जुकरबर्ग ने कहा, 'हम यहां कैसे पहुंचे, मैं इसकी जवाबदेही लेता हूं। मुझे पता है कि यह सभी के लिए कठिन है, और जो लोग इससे प्रभावित हुए हैं, उनके लिए मुझे खेद है।'

यह भी पढ़ें: अगर ऑफिस के लिए रास्ते में हैं तो घर लौट जाएं, ट्विटर ने आज से शुरू की कर्माचारियों की छंटनी

कंपनी के राजस्व में गिरावट के बाद सोशल-मीडिया कंपनी की तरफ से यह कार्रवाई की गयी है। मार्क जुकरबर्ग ने आज एक ब्लॉग पोस्ट में कहा आज मैं मेटा के इतिहास में किए गए कुछ सबसे कठिन बदलावों को साझा कर रहा हूं। मैंने अपनी टीम के आकार को लगभग 13% कम करने और हमारे 11,000 से अधिक प्रतिभाशाली कर्मचारियों को कंपनी से बाहर करने का फैसला लिया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक काम से निकाले जा रहे कर्मचारियों को कंपनी की तरफ से 6 सप्ताह का मूल वेतन दिया जाएगा। कंपनी ने कहा कि कर्मचारियों को छह महीने के लिए स्वास्थ्य सेवा का खर्च दिया जाएगा। इतने बड़े पैमाने पर कर्मचारियों की छटनी यह बताता है कि कंपनी की तरफ से बड़े बजट में कटौती की तैयारी है। डिजिटल विज्ञापन राजस्व में तेज मंदी के कारण कंपनी को यह कदम उठाना पड़ा।

मेटा की नौकरी में कटौती पिछले हफ्ते ट्विटर द्वारा किए गए छटनी के बाद हुई है। जिसमें देखा गया कि कंपनी ने एलोन मस्क को अपनी बिक्री के बाद अपने कर्मचारियों की संख्या में लगभग 50% की कटौती की है। उधर स्नैपचैट की तरफ से भी कहा गया है कि कंपनी अपने वर्कफोर्स को 20 प्रतिशत कम करने वाली है।