Devshayani Ekadashi 2020: कल से प्रारंभ हो रहा है चातुर्मास

Chaturmas 2020 : 5 माह का होगा चार्तुमास, अधिक मास और लीप इयर एक ही साल में, 160 साल बाद बना यह संयोग

Updated: Jun-30, 2020, 11:44 AM IST

Devshayani Ekadashi 2020: कल से प्रारंभ हो रहा है चातुर्मास

आषाढ़ शुक्ल पक्ष की एकादशी एक जुलाई से चातुर्मास का आरंभ हो रहा है, इस साल 25 नवंबर तक चातुर्मास रहेगा । एक जुलाई से 25 नवम्बर तक 148 दिन तक चातुर्मास होगा। जो की 5 महीने का समय है। इस साल आश्विन मास के बाद 18 सितंबर से 16 अक्टूबर तक अधिकमास रहेगा, जिसे पुरुषोत्तम मास के नाम से भी जाना जाता है। वहीं 25 नवंबर कार्तिक शुक्ल पक्ष की एकादशी को चातुर्मास की समाप्ती होगी। देवशयनी एकादशी को पद्मा एकादश और पद्मनाभा एकादशी नाम से भी जाना जाता है। आषाढ़ महीने की एकादशी से कार्तिक महीने की एकादशी तक भगवान विष्णु योग निंद्रा में चले जाते हैं। 1 जुलाई से गृहस्थ लोगों के लिए चातुर्मास नियम प्रारंभ हो रहे हैं।

देवशयनी एकादशी से देव उठनी एकादशी तक होता है चातुर्मास

देव शयनी एकादशी से देव उठनी एकादशी के बीच का समय चातुर्मास कहा जाता है। इस दौरान पृथ्वी का भार देवाधिदेव महादेव के पास रहता है। मान्यता है कि इन चातुर्मास में देवताओं के साथ श्री हरि विष्णु शयन कालांश में संत, ऋषि, मुनि एक ही जगह पर ठहर कर साधना करते हैं। यह समय साधना के साथ पुण्य अर्जन करने का होता है। इस दौरान धार्मिक कार्य करने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है। चातुर्मास में श्रीमद् भागवत कथा का श्रवण करना हजारों गुना फल प्रदान करता है। चातुर्मास में शादी विवाह जैसे मांगलिक कार्य बंद रहते हैं। वहीं धार्मिक कार्यों का हवन पूजन का महत्व कई गुना बढ़ जाता है।

कैसे होती है अधिक मास की गणना

ज्योतिष मठ संस्थान भोपाल के पंडित विनोद गौतम के अनुसार पंचाग का 13वां माह पुरुषोत्तम मास कहलाता है। आश्विन मास में शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से अमावस्या तक सूर्य की संक्रांति नहीं होगी । मान्यता है कि जिस महीने में सूर्य की संक्रांति नहीं होती वह अधिक मास कहलाता है। भारतीय हिंदू कैलेंडर सूर्य मास और चंद्र मास की गणना के अनुसार चलता है। अधिकमास चंद्र वर्ष का एक अतिरिक्त भाग है, जो हर 32 माह, 16 दिन और 8 घटी के अंतर से आता है। यह मास सूर्य वर्ष और चंद्र वर्ष के बीच अंतर का संतुलन बनाने के लिए होता है। भारतीय गणना पद्धति के अनुसार प्रत्येक सूर्य वर्ष 365 दिन और करीब 6 घंटे का होता है। वहीं चंद्र वर्ष 354 दिनों का माना जाता है। दोनों वर्षों के बीच करीब 11 दिनों का अंतर होता है, जो हर तीन साल में करीब 1 महीने के बराबर हो जाता है। इसी अंतर को पूरा करने के लिए हर तीन साल में एक चंद्र मास अस्तित्व में आता है। और इसे अतिरिक्त होने के कारण अधिकमास या पुरूषोत्तम मास के नाम से जाना जाता है। भारत में अधिक मास के दौरान पूजा-पाठ, भगवत कथा व्रत-उपवास, जप जैसे धार्मिक कार्य किए जाने का विधान है।

2020 में क्यों 5 महीने का है चातुर्मास

पंचांग के अनुसार इस साल 2020 में दो आश्विन महीने हैं। आश्विन महीना 3 सितंबर से 31 अक्टूबर तक रहेगा। इन दो महीनों में 18 सिंतबर से 16 अक्टूबर का महीना अधिक मास होगा। पितृमोक्ष अमावस्या के बाद 18 सितंबर से 16 अक्टूबर तक पुरुषोत्तम मास रहेगा। यही वजह है कि इस साल 17 अक्टूबर से शारदीय नवरात्रि मनाई जाएगी।

अधिकमास के कारण देरी से आएंगे त्यौहार

इस साल 18 सितंबर से 16 अक्टूबर तक आश्विन अधिक मास भी रहेगा, याने दो आश्विन मास। यही कारण है कि श्राद्ध पक्ष के बाद मनाए जाने वाली नवरात्रि, दशहरा ,दीपावली जैसे त्योहार 20 से 25 दिन देरी से मनाए जाएंगे। श्राद्ध पक्ष और नवरात्रि में लगभग एक महीने का अंतर होगा। दशहरा 26 अक्टूबर और दीपावली का त्योहार 14 नवंबर को मनाया जाएगा। वहीं देव प्रबोधिनी एकादशी (देव उठनी ग्यारस) 25 नवंबर को मनाई जाएगी । ये संयोग 19 साल बाद आया है जिसमें आश्विन मास पुरुषोत्तम मास के रूप में आया है। अगला आश्विन मास में आने वाले पुरुषोत्तम मास 19 साल बाद 2039 में में आएगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार 19 साल पहले साल 2001 में आश्विन माह का पुरुषोत्तम मास पड़ा था। अंग्रेजी कैलेंडर का लीप ईयर और आश्विन के अधिकमास का योग 160 साल बाद बन रहा है। इससे पहले 1860 में ऐसा पुरुषोत्तम मास आया था, जब उसी साल लीप ईयर भी था।

अधिक मास में क्या करना चाहिए

हिंदू धर्म में सभी शुभ काम ग्रहों की चाल और उनकी स्थिति देखकर तय किए जाने का विधान है जिससे गृहों का शुभ फल जातक को मिले । जातक का काम भी बिना किसा बाधा के पूरा हो सके। इस लिए अधिकमास में मांगलिक कार्य वर्जित होते हैं। ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, मलमास के बाद से विवाह आदि मांगलिक कार्य प्रारंभ किए जा सकते हैं। अधिक मास में देवप्रतिष्ठा, तीर्थ यात्रा, गृह निर्माण आरंभ, विवाह, जनेऊ संस्कार, मुंडन संस्कार,अन्नप्राशन नहीं किए जाते हैं। अधिकमास या पुरुषोत्तम मास साधना का समय होता है। मान्यता है कि आत्मा के कारक ग्रह सूर्य इस दौरान मुक्ति के कारक ग्रह गुरु की राशि में होते हैं। इसलिए इसे आत्मशोधन का समय कहा गया है। 

अधिक मास में क्या करने से शुभ फल की प्राप्ति होगी

धार्मिक मान्यता है कि पुरुषोत्तम मास या अधिकमास में जो भी धार्मिक कार्यों किए जाते हैं, वो अन्य किसी महीने में किए गए पूजा-पाठ से 10 गुना अधिक फल देते हैं। अधिकमास में विशेष कर रोग निवृत्ति के अनुष्ठान, ऋण चुकाने का कार्य, शल्य क्रिया, संतान के जन्म संबंधी कर्म, सूरज पूजा,गर्भाधान, पुंसवन, सीमांत संस्कार किए जा सकते हैं। पुरुषोत्तम माह में यात्रा करना, साझेदारी के कार्य करना, मुकदमा लगाना, बीज बोना, वृक्ष लगाना, दान देना, सार्वजनिक हित के काम, सेवा कार्य करने में किसी प्रकार का दोष नहीं है। इस माह में व्रत, दान, जप करने का अवश्य फल प्राप्त होता है।

चातुर्मास में क्या करें, क्या ना करें

चातुर्मास के दौरान सावन के महीने में साग, हरी सब्जियां, भादों में दही, अश्विन में दूध और कार्तिक में दालें खाना वर्जित है। वहीं दूसरों की निंदा,धोखा देना वर्जित है। चातुर्मास के दौरान शरीर पर तेल नहीं लगाना चाहिए। इस दौरान कांसे के बर्तन में भोजन नही करना चाहिए। पलंग पर न सोकर, जमीन पर बिस्तर लगाकर सोएं। चातुर्मास में मांस, मदिरा, लहसुन, प्याज का प्रयोग वर्जित है। चातुर्मास में भगवान की आराधना करें,ब्रह्मचर्य का पालन करें, ब्राह्मणों को स्वर्ण या पीले रंग की वस्तुओं का दान करें, दीपदान करें, भगवान विष्णु की महिमा का गुणगान करें, कमल पुष्प से उनका पूजन करने का विधान है। मान्यता है कि चातुर्मास के चार महीनों में व्यक्ति जिस चीज का त्याग करता है, वह वस्तु उसे अक्षय रूप में दोबारा प्राप्त होती है। चातुर्मास व्रत धारण करने वाले लोग केवल एक समय ही भोजन करते हैं। सुर्यास्त के बाद भोजन नहीं करने का विधान है।