रूपया कुछ और फिसला, अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 78.33 हुई क़ीमत

विदेशी निवेशकों की लगातार बिकवाली और घरेलू शेयर मार्केट में उठापटक के बीच शुक्रवार को रुपया 1 पैसे लुढ़ककर 78.33 के रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुँच गया.. रूपये का अवमूल्यन जारी रहते हुए निम्नतम स्तर पर पहुँच गया

Updated: Jun 24, 2022, 04:57 PM IST

रूपया कुछ और फिसला, अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 78.33 हुई क़ीमत

मुंबई। विदेशी निवेशकों की लगातार बिकवाली और घरेलू शेयर मार्केट में volatility के चलते शुक्रवार को भी रुपए में गिरावट जारी रहा। शुक्रवार को  इसकी कीमत 78.33 रुपये प्रति डॉलर तक पहुंच गयी। इस तरह आज रूपये में गिरावट का एक नया रिकॉर्ड बना।

शुक्रवार को शुरुआती कारोबार में रुपए ने थोड़ी बढ़त बनाई थी। हालांकि, कारोबार बंद होने तक रुपए रिकॉर्ड लो के साथ बंद हुआ। यह लगातार तीसरा दिन है जब रुपया सर्वोच्च निचले स्तर पर बंद हुआ है।

इससे पहले बुधवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 19 पैसे लुढ़ककर 78.32 रुपये प्रति डॉलर के एक नये रिकॉर्ड निचले स्तर पर बंद हुआपिछले सत्र में रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 78.13 पर बंद हुआ था। इससे पहले रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 78.13 पर बंद हुआ था।

रुपये में जारी गिरावट के बीच एक रिपोर्ट में विशेषज्ञों के हवाले से कहा गया है कि डॉलर के मुकाबले रुपया आने वाले दिनों में 81 के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच सकता है। यानी अभी इसमें और गिरावट दर्ज की जा सकती है। हालांकि, इस बीच उन्होंने संभावना जताई है कि इस स्तर तक टूटने के बाद रुपये में फिर से बढ़ोतरी संभव है। 

रुपये के टूटने से कई क्षेत्रों में असर देखने को मिल सकता है। इसमें तेल की कीमतों से लेकर रोजमर्रा के सामनों की कीमतों में इजाफा दिखाई देगा। भारत तेल से लेकर जरूरी इलेक्ट्रिक सामान और मशीनरी के साथ मोबाइल-लैपटॉप समेत अन्य गैजेट्स के लिए दूसरे देशों से आयात पर निर्भर है। अधिकतर मोबाइल और गैजेट का आयात चीन और अन्य पूर्वी एशिया के शहरों से होता और अधिकतर कारोबार डॉलर में होता है। अगर रुपये में इसी तरह गिरावट जारी रही तो देश में आयात और महंगा हो जाएगा।