क्या आपकी काली मिर्च में मिलावट है, घर पर करें शुद्धता की जांच

काली मिर्च में ब्लैक बेरी की मिलावट का पता लगाने के लिए घर पर आसानी चंद स्टेप से पता लगाया जा सकता है कि आपकी काली मिर्च शुद्ध है कि नहीं

Publish: Oct 25, 2021, 12:35 PM IST

क्या आपकी काली मिर्च में मिलावट है, घर पर करें शुद्धता की जांच
Photo Courtesy: master class

भारतीय खाने के स्वाद की दुनिया दीवानी है, खाने का स्वाद बढ़ाने में मसालों को सबसे ज्यादा योगदान होता है। भारतीय मसालों को दुनियाभर में पंसद किया जाता है। ये अपने अनोखे स्वाद और स्वास्थ्य लाभों के लिए जाने जाते हैं। इन्हीं मसालों में से एक है काली मिर्च जो देश-विदेश के खाने का स्वाद बढ़ाने के लिए फेमस है।

काली मिर्च अपने अनोखे स्वाद और स्वास्थ्य संबंधी फायदों के लिए जानी जाती है। इसके औषधीय गुण इसे आयुर्वेदिक दवाओं का खास अवयव बनाते हैं। वहीं रसोई में गरम मसालों के तौर पर उपयोग की जाने वाली काली मिर्च चाय का स्वाद कई गुना बढ़ा देती है। काली मिर्च सर्दी-जुकाम, वायरल फीवर गले में खराश, के साथ-साथ कोरोना के इलाज में भी लाभदायक है। इसे आप जैसे चाहें वैसे उपयोग करें। वहीं किचन में सब्जियों का स्वाद बढ़ाने के लिए इसे पनीर, छोले या फिर किसी भी मसालेदार सब्जी में पुलाव औऱ बिरयानी में डालकर खाने का स्वाद दोगुना किया जाता है। पास्ता, पीज्जा, सूप का स्वाद इसके बिना अधूरा लगता है। वहीं गले में कफ होने पर सूखी काली मिर्च चूसने से गले दर्द जैसी समस्या से निजात मिलती है।

 काली मिर्च में पेपरिन  नाम का एक महत्वपूर्ण कंपाउंड होता है। पेपरिन ही सर्दी-खांसी और जुकाम जैसी बीमारियों को ठीक करने में काफी हद तक फायदेमंद होता है।

इसके सेवन से डाइजेशन भी अच्छा होता है। कालीमिर्च में पाया जाने वाला काइमोट्रिप्सिन, पैंक्रियाटिक लाइपेज की एक्टिविटी को बढ़ा देता है।रोजाना सुबह खाली पेट 5-6 काली मिर्च निगलने से वेट कम करने में मदद मिलती है। काली मिर्च भूख कंट्रोल करती है, जिससे आप वजन कम करने का काम आसानी से कर सकते हैं।

इसमें एंटी आक्सिडेंट्स पाए जाते हैं जो कि हेल्दी स्किन में मददगार होते हैं। काली मिर्च के यूज से शरीर में सूजन कम होती है। इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीअर्थराइटिस एलिमेंट्स जोड़ों के दर्द को कम करने में मददगार होते हैं।

लेकिन अगर काली मिर्च मिलावटी है तो यह फायदे की जगह नुकसान कर सकती है। काली मिर्च में ब्लैकबेरी की मिलावट आम बात हो गई है। लेकिन आप अपनी काली मिर्च में मिलावट का पता आसानी से लगा सकते हैं। ज्यादातर काली मिर्च को ब्लैकबेरी के साथ मिलाया जा सकता है।वहीं जरूरत से ज्यादा काली मिर्च के सेवन से पेट में जलन और गर्मी बढ़ जाती है। इससे  डायरिया और कभी कभी कब्ज हो सकता है। इसकी तासीर गर्म होती है, जिन्हें पित्त की दिक्कत हो उन्हें इसके सेवन से बचना चाहिए।

काली मिर्च में मिलावट पता करने का तरीका

 हाल ही में FSSAI द्वारा सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर किया गया था जिसमें घर बैठे आसान तरीके से मिलावट पता लगाने के बारे में बताया गया था। किसी टेबल पर 10-20 दानें काली मिर्च रखें।फिर इसे उंगली या अंगूठे की मदद से दबाने की कोशिश करें, असली काली मिर्च आसानी से नहीं टूटेगी। इसके लिए आपको खासी मशक्कत करना पड़ेगा। वहीं अगर काली मिर्च मिलावटी है, तो यह आसानी से टूट जाएगी।

 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by FSSAI (@fssai_safefood)

अगर यह आसानी से हल्के हाथ से ही टूट जाए, तो समझ जाएं कि इसमें ब्लैक बेरी की मिलावट हुई है। काली मिर्च के जो दाने दब गए हैं वे हल्के रंग के ब्लैकबेरी जैसे नजर आते हैं। जिन्हें अक्सर काली मिर्च के साथ मिला दिया जाता है। शुद्ध मसालों और मिलावटी चीजों के बीच अंतर करना बहुत जरूरी है। इसके लिए आपको टेस्ट करने का तरीका जरूर पता होना चाहिए। क्योंकि यह हमें अच्छा खाने और स्वास्थ्य को बनाए रखने में बहुत मदद करते हैं।