Israel Protests: नेतन्याहू, तुम्हारा समय पूरा हुआ

Israeli PM Benjamin Netanyahu: भ्रष्टाचार मामले में नेतन्याहू के खिलाफ सुनवाई जारी, कोरोना वायरस संकट और खराब आर्थिक के कारण जनता नाराज

Updated: Aug-10, 2020, 04:57 PM IST

Israel Protests: नेतन्याहू, तुम्हारा समय पूरा हुआ
Pic: Swaraj Express

हजारों प्रदर्शनकारियों ने इजरायल के राष्ट्रपति बेंजमिन नेतन्याहू के मध्य जेरूशलम में स्थित उनके आधिकारिक आवास के पास आठ अगस्त की रात में प्रदर्शन किया। भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे नेतन्याहू के खिलाफ देश में काफी समय से विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं और समय के साथ-साथ प्रदर्शनकारियों की संख्या बढ़ती जा रही है। नेतन्याहू के खिलाफ सुनवाई चल रही है। प्रदर्शनकारी बार-बार नेतन्याहू के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। वे सरकार द्वारा कोरोना संकट का सामना करने के लिए उठाए गए कदमों से खासा नाराज हैं। कोरोना वायरस के कारण हजारों लोगों की नौकरी चली गई है।

ताजा विरोध प्रदर्शनों में प्रदर्शनकारियों ने ‘तुम्हारा समय पूरा हुआ’, ‘क्राइम मिनिस्टर’, ‘बॉलफोर हमारे हाथों में है’ जैसे नारे लगाए। बॉलफोर स्ट्रीट पर ही नेतन्याहू का आवास है। प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शकारियों के हाथों में इजरायल का झंडा था।

प्रदर्शकारियों ने नेतन्याहू को भ्रष्टाचारी बताते हुए कहा कि देश की गठबंधन की सरकार आम लोगों की पीड़ा को समझने में विफल रही है। इजरायल की मीडिया के अनुसार आठ अगस्त की रात को करीब 15 हजार प्रदर्शनकारियों ने प्रदर्शन किया। बताया जा रहा है कि 2011 के बाद से देश में इतने बड़े प्रदर्शन पहली बार हो रहे हैं।

देश में कोरोना वायरस मामले बढ़ने की गति बहुत तेज हो गई है, वहीं बेरोजगारी दर 20 प्रतिशत से भी अधिक हो गई है। इजरायल में इस समय लिकुड और ब्लू एंड व्हाइट पार्टी की गठबंधन की सरकार है। ब्लू एंड व्हाइट पार्टी के नेता बेनी गांट्ज प्रदर्शकारियों का बचाव कर रहे हैं।

वहीं दूसरी तरफ नेतन्याहू इन प्रदर्शनों को अराजकतावादियों और वामपंथियों का अड्डा बता रहे हैं, जिनके जरिए वे एक मजबूत दक्षिणपंथी नेता को बेदखल करना चाहते हैं। नेतन्याहू ने यह भी कहा कि प्रदर्शन पूर्वाग्रह से ग्रस्त मीडिया से प्रेरित हैं जो तथ्यों को तोड़ मरोड़कर पेश करती है और प्रदर्शनों का आनंद लेती है।

ये प्रदर्शन मुख्यत: शांतिपूर्ण रहे हैं। कुछ मामलों में ये प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच झड़प का रूप लेकर समाप्त हुए हैं। वहीं कुछ अन्य मामलों में, नेतन्याहू समर्थकों के छोटे-छोटे समूह और धुर दक्षिणपंथी समूहों से संबद्ध व्यक्तियों ने प्रदर्शनकारियों पर हमला किया है।