तख्तापलट के बाद बंद हुआ भारत और अफगानिस्तान के बीच व्यापार, बढ़ सकती हैं ड्राई फ्रूट्स की कीमतें

फेडरेशन ऑफ इंडिया एक्सपोर्ट ऑर्गेनाइजेशन ने की व्यापार बंद होने की पुष्टि, पाकिस्तान के रास्ते भारत में होती थी माल की सप्लाई

Publish: Aug 19, 2021, 09:23 AM IST

तख्तापलट के बाद बंद हुआ भारत और अफगानिस्तान के बीच व्यापार, बढ़ सकती हैं ड्राई फ्रूट्स की कीमतें

नई दिल्ली। अफगानिस्तान में हुए इस तख्तापलट का असर अब भारत पर दिखने लगा है। अफगानिस्तान और भारत के बीच होने वाला व्यापार अब बंद हो गया है। अफगानिस्तान पर तालिबानी हुकूमत के कब्जे के बाद भारत और अफगानिस्तान के बीच होने वाले व्यापार पर रोक लगा दी गई। 

फेडरेशन और इंडिया एक्सपोर्ट ऑर्गेनाइजेशन के अजय सहाय ने व्यापार बंद होने की पुष्टि की है। अजय सहाय ने व्यापार पर रोक लगने पुष्टि करते हुए कहा कि पाकिस्तान मार्ग के जरिए अफगानिस्तान और भारत के बीच व्यापार होता रहा। दोनों देशों के बीच होने वाले व्यापार पर फिलहाल तालिबान ने रोक लगा दी है। 

अफगानिस्तान भारत के सबसे बड़े ट्रेड पार्टनरों में से एक है। 2021 में ही भारत का अफगानिस्तान से एक्सपोर्ट करीब 835 मिलियन डॉलर का था, जबकि इंपोर्ट 510 मिलियन डॉलर के आसपास था। लेकिन सत्ता परिवर्तन के कारण अब आयात निर्यात बुरी तरह से बाधित हो गया है। भारत अफगानिस्तान से करीब 85 फीसदी मेवे का आयात करता है। वर्तमान में व्यापार बाधित होने के कारण आने वाले दिनों में भारत में ड्राई फ्रूट्स की कीमतों पर उछाल देखने को मिल सकती है। 

व्यापार के साथ साथ भारत ने अफगानिस्तान की कई परियोजनाओं में निवेश किया हुआ है। लेकिन हुकूमत बदलने के साथ साथ इन सभी परियोजनाओं के भविष्य पर भी संकट के बादल मंडराने लगे हैं। हालांकि तालिबानी हुकूमत ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान इस बात का आश्वासन दिया था कि सरकार के गठन होते ही सभी चीजें स्पष्ट हो जाएंगी। लेकिन दूसरी तरफ भारत सरकार ने तालिबानी हुकूमत को मान्यता देने या न देने के मसले पर अभी तक अपना रुख साफ नहीं किया है।