MP में कर्नाटक से आएंगे 15 हाथी, STR, पेंच और कान्हा रिजर्व में हाथी लाने की तैयारी

वन्यप्राणियों की सुरक्षा के लिए मंगाए जा रहे हाथी, STR में दोगुना होगा हाथियों का कुनबा, हाथी लाने के लिए वाहनों की टेंडर जारी।

Updated: Nov 16, 2022, 10:40 AM IST

MP में कर्नाटक से आएंगे 15 हाथी, STR, पेंच और कान्हा रिजर्व में हाथी लाने की तैयारी

नर्मदापुरम। मध्य प्रदेश में वन्यप्राणियों की सुरक्षा के लिए 15 हाथी मंगाए जा रहे हैं। फॉरेस्ट विभाग कर्नाटक से आने वाले 15 हाथियों की मेजबानी के लिए तैयारी में जुटा है। बताया जा रहा है कि नवंबर आखिर या दिसंबर के पहले सप्ताह में हाथी लाए जाएंगे। इन्हें कड़ी सुरक्षा में मध्य प्रदेश लाया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक हाथियों को लाने के लिए एसटीआर की टीम बनकर तैयार है। टीम में क्षेत्र संचालक, डॉक्टर, महावत रहेंगे। हाथी लाने के लिए टीम नवंबर के आखिरी सप्ताह में जाएगी। यहां लाकर हाथियों को पहले कैंप में रखेंगे। उनकी निगरानी होगी। इसके बाद उन्हें सुरक्षा व्यवस्था में लिया जाएगा। एसटीआर में अभी 6 हाथी हैं। 6 और आने के बाद 12 हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में भी लागू हुआ पेसा कानून, शहडोल में राष्ट्रपति मुर्मू ने जारी की नियमावली

हाथी लाने के लिए एसटीआर ने बाकायदा वाहन के लिए टेंडर किए थे। टेंडर के अनुसार गाड़ी हो गई हैं। अब गाड़ी कर्नाटक, मैसूर जाएंगी। वहां प्रक्रिया पूरी होने के बाद हाथियों को लाया जाएगा। कर्नाटक के मैसूर के नागरहोल टाइगर रिजर्व में एशियाई हाथी होते हैं। इन हाथियों की कई विशेषताएं हैं। घने जंगल में वन्यप्राणियों की सुरक्षा के लिए यह उपयुक्त रहते हैं। 

एशियाई हाथी रात में ज्यादा सक्रिय होते हैं। वे 150 किलो सामग्री खा सकते हैं। इनके कान बड़े होते हैं। वजन 3 से 5 हजार किलो होता है। हाथी एक दिन में 200 लीटर तक पानी पी लेते हैं। इसलिए पानी की लिए दूर तक बार-बार नहीं जाते हैं। पर्यटकों को सैर कराने, बाघों के रेस्क्यू एवं रात में पेट्रोलिंग हाथियों से की जाती है।