राघोगढ़ के सात लोगों ने अहमदाबाद फैक्ट्री सिलिंडर ब्लास्ट में गंवाई जान, तीन की हालत गंभीर

गैस सिलिंडर फटने से लगी भीषण आग, राघोगढ़ के रहने वाले एक ही परिवार के सात लोगों की मौत, 3 अन्य बुरी तरह जले, सीएम ने किया मुआवजे का ऐलान

Updated: Jul 28, 2021, 05:40 AM IST

राघोगढ़ के सात लोगों ने अहमदाबाद फैक्ट्री सिलिंडर ब्लास्ट में गंवाई जान, तीन की हालत गंभीर

भोपाल। अहमदाबाद की एक फैक्ट्री में शुक्रवार रात भीषण आग लग गई जिसमें एक ही परिवार के सात लोगों के मौत होने की खबर है। सभी मृतक मध्य प्रदेश के गुना जिले के राघौगढ़ विधान सभा क्षेत्र के निवासी बताए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि ये एक काजू फैक्ट्री है। इस हादसे को लेकर सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी पीड़ितों को 2 लाख रुपए मुआवजे की घोषणा की है।

जानकारी के मुताबिक आग सिलिंडर के फटने से लगी थी। घटना के वक्त सभी मजदूर फैक्ट्री के भीतर बने कमरे में सो रहे थे। इस हादसे पर राघौगढ़ से कांग्रेस विधायक जयवर्धन सिंह ने शोक व्यक्त किया है। जयवर्धन सिंह ने ट्वीट कर कहा है कि, ‘अहमदाबाद की एक फैक्ट्री में गैस सिलेंडर फटने के कारण वहाँ कार्यरत 7 लोगो का दुखद देहांत हो गया, ये सभी ग्राम बैरवास (राघौगढ़) के निवासी है। भगवान सभी को अपने श्री-चरणों में स्थान दे। हम शासन से हरसंभव मदद की मांग करते है व व्यक्तिगतरूप से भी जो हो सकता है उसको में पूरा करूंगा।’ 

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस घटना पर शोक व्यक्त किया है। सीएम शिवराज ने ट्वीट किया, ‘अहमदाबाद की फैक्ट्री में गैस लीक से हुए हादसे में गुना के हमारे कई श्रमिक भाइयों के निधन का समाचार सुनकर अत्यथिक दुःख हुआ। ईश्वर से दिवंगत आत्माओं को अपने श्रीचरणों में स्थान और परिजनों को यह वज्रपात सहन करने की शक्ति देने की प्रार्थना करता हूं। ॐ शांति!’ सीएम चौहान ने मृतक श्रमिकों के परिजनों को 4 लाख, बच्चों के परिवार को 2 लाख देने व घायलों के नि:शुल्क इलाज की घोषणा भी की है। 

पुलिस के मुताबिक हाल ही में मध्य प्रदेश के गुना जिले के राघौगढ़ विधानसभा के ग्राम बेरवास तहसील मधुसुदनगढ़ से अहिरवार समाज के 15 लोग अहमदाबाद के एक काजू फैक्टरी में काम करने गए थे। सभी मजदूर ही परिवार से ताल्लुक रखते थे। शुक्रवार रात जब परिवार के 10 सदस्य फैक्टरी के भीतर बने एक कमरे में सो रहे थे तब अचानक गैस सिलिंडर के फटने से आग लग गई। आवाज़ सुन कर आसपास के लोग बचाव कार्य के लिए आगे आए। लेकिन कुछ ही पलों में आग इतनी फैल गई थी कि काबू करना नामुमकिन हो गया था।

यह भी पढ़ें: अगली घोषणा से पहले सतर्क रहे सरकार, दिल्ली की तर्ज़ पर एमपी में भी याचिका की पैरवी

हादसा इतना भयावह था कि कमरे में सो रहे सभी लोग आग की चपेट में आ गए। हालांकि दस में से तीन लोगों को बचा लिया गया है। सात लोगों की मौके पर मौत हो गई। सात मृतकों में से चार के शव को खबर लिखने तक निकाला जा चुका है। आग की चपेट में आए अन्य लोग बुरी तरह से झुलस गए हैं। घायलों को अस्पताल में भर्ती करवा दिया गया है।