अशोकनगर: ASI की प्रताड़ना से तंग आकर युवक ने की आत्महत्या, FIR तक दर्ज नहीं कर रही पुलिस

ASI विनोद तिवारी मुझसे पैसे की मांग करता है और मैं उससे बहुत परेशान हूं, सुसाइड नोट लिखकर ट्रेन के सामने कूदा युवक, जांच का हवाला देकर टालमटोल करने में जुटी पुलिस, उसी थाने में अबतक पदस्थ है आरोपी ASI

Updated: Jun 12, 2022, 02:02 PM IST

अशोकनगर: ASI की प्रताड़ना से तंग आकर युवक ने की आत्महत्या, FIR तक दर्ज नहीं कर रही पुलिस

अशोकनगर। मध्य प्रदेश के अशोकनगर में एक युवक के आत्महत्या का सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां पुलिस अधिकारी की प्रताड़ना से तंग आकर एक युवक ने आत्महत्या कर ली। युवक ने आत्महत्या से पहले अपने हथेली और एक पन्ने पर लिखा कि ASI प्रमोद तिवारी मुझसे पैसे मांगता है। हालांकि, मामला स्पष्ट होने के बावजूद पुलिस अबतक एफआईआर भी दर्ज नहीं की है। इतना ही नहीं आरोपी ASI अभी भी उसी थाने में पदस्थ हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक भूपेन्द्र दांगी निवासी त्रिलोकपुरी कॉलोनी ट्रक चलाता था। शुक्रवार की शाम उसने ट्रेन के सामने आकर आत्महत्या कर ली। शव के पास एक सुसाइड नोट भी था, इसके साथ ही मृतक के हाथ पर मौत की वजह भी लिखी हुई थी। इसमें युवक ने अपने मौत का जिम्मेदार कोतवाली थाने के एक एएसआई को बताया है। सुसाइड नोट में लिखा था कि "विनोद तिवारी मुझसे पैसे की मांग करता है और मैं उससे बहुत परेशान हूं।

यह भी पढ़ें: भोपाल में मनचलों का दुस्साहस: महिला पर किया ब्लेड से हमला, 118 टांके लगे, कांग्रेस ने उठाए सवाल

मृतक के पिता महेंद्र लोधी का कहना है कि कल मेरा बेटा रामपुरा मोहल्ले में काम कर रहा था। तभी कोतवाली में पदस्थ एएसआई द्वारा उससे मारपीट की गई, जिसके कारण वे तनाव में था। मृतक के भाई टिंकू दांगी ने बताया शुक्रवार की शाम के समय उसने फोन लगाकर बताया कि, उसे एएसआई परेशान कर रहा है इस वजह से वह आत्महत्या करने जा रहा है। इसपर टिंकू ने कहा की वह तो काफी समय से परेशान कर रहा है, घर चला जा। लेकिन वह घर नहीं पहुंचा। बाद में GRP थाने से उन्हें जानकारी मिली की उसने आत्महत्या कर लिया है। 

मृतक के परिजन कोतवाली में पदस्थ एएसआई विनोद तिवारी के खिलाफ मामला दर्ज करने की मांग कर रहे हैं। हालांकि, पुलिस जांच का हवाला देकर टालमटोल करने में जुटी हुई है। कोतवाली थाना ही मामले की जांच कर रही है और ASI तिवारी अब भी वहां पदस्थ हैं। परिजनों को आशंका है कि वह जांच प्रभावित करेंगे, इसलिए उन्हें तत्काल हटाया जाए। इस घटना को लेकर स्थानीय लोगों में पुलिस के खिलाफ आक्रोश व्याप्त है।

अशोकनगर एएसपी प्रदीप पटेल ने भी स्वीकारा है कि एएसआई का नाम मृतक के हाथ पर लिखा था, और सुसाइड नोट में भी लिखा था। हालांकि, कार्रवाई को लेकर पूछने पर उन्होंने कहा कि पुलिस मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच कर रही है और परिजनों को भी कार्रवाई का आश्वासन दिया गया है।