बैतूल में खुली विकास की पोल, बीमार महिला को बैलगाड़ी से पार करायी नदी, इलाज में देरी से हालत गंभीर

बैतूल में नदी पर पुल नहीं होने के कारण एक बीमार महिला को उफनती नदी में बैलगाड़ी से पार कराना पड़ा, जिसमें चार लोगों की जिंदगी जोखिम में डल गई थी

Updated: Aug 24, 2022, 01:43 PM IST

बैतूल में खुली विकास की पोल, बीमार महिला को बैलगाड़ी से पार करायी नदी, इलाज में देरी से हालत गंभीर

बैतूल। मध्य प्रदेश के बैतूल से विकास की पोल खोलने वाली एक और तस्वीर सामने आई है। यहां नदी पर पुल नहीं होने के कारण एक बीमार महिला को उफनती नदी में बैलगाड़ी से पार कराना पड़ा। इस दौरान बैल गाड़ी में सवार चार लोगों की जिंदगी जोखिम में थी। गनीमत रही कि महिला और परिजन सकुशल नदी पार कर गए और महिला को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालांकि, इलाज में देरी के कारण महिला की हालत गंभीर बताई जा रही है।

मामला बैतूल के चिचोली विकासखंड का है। यहां बोड़ रैय्यत गांव में भाजी नदी पर पुल नहीं है। शुक्रवार को एक महिला सुखमनी इवने की उल्टी दस्त से तबियत बिगड़ गई। नदी में बाढ़ आने के कारण परिवार वाले उसे अस्पताल नहीं ले जा पाए। रविवार को महिला की हालत और ज्यादा गंभीर हो गई, तब परिवार वालों ने महिला की जान बचाने के लिए जोखिम उठाते हुए बैलगाड़ी से नदी पार कराई। इस दौरान नदी में तेज बहाव था, शुक्र है कि महिला और उसके परिजन साकुशल नदी पार कर गए।

बीमार महिला के पति दयाराम का कहना है कि नदी पर पुल नहीं है तो महिला को एक किलोमीटर तक बैलगाड़ी से मुख्य मार्ग तक ले गए और वहां किराए का वाहन लेकर उसे चिचोली अस्पताल ले गए। हालत गंभीर होने पर वहां से उसे जिला अस्पताल रैफर कर दिया गया। जिला अस्पताल के बैलून वार्ड में महिला को भर्ती किया गया है।

महिला का इलाज कर रहे डॉ रानू वर्मा का कहना है कि महिला कि उल्टी-दस्त से तबियत बिगड़ी थी और वह देरी से जिला अस्पताल पहुंची जिसके कारण उसकी किडनी में भी खराबी आ गई है। उसका इलाज चल रहा है।