पुलिस भर्ती में पूर्व सैनिकों को 10 फीसदी आरक्षण से वंचित न रखें, दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज को लिखा पत्र

पूर्व सैनिकों को इस बार पुलिस भर्ती में नहीं मिला आरक्षण, दिग्विजय सिंह ने उठाई पूर्व सैनिकों की मांग, आश्वासन देकर गायब हो गए सिंधिया

Updated: Apr 19, 2022, 11:23 PM IST

पुलिस भर्ती में पूर्व सैनिकों को 10 फीसदी आरक्षण से वंचित न रखें, दिग्विजय सिंह ने सीएम शिवराज को लिखा पत्र

भोपाल। पुलिस भर्ती परीक्षा में 10 फीसदी आरक्षण का लाभ न मिलने के खिलाफ आंदोलन कर रहे मध्य प्रदेश के पूर्व सैनिकों को दिग्विजय सिंह का समर्थन मिला है। कांग्रेस नेता ने इस संबंध में सीएम शिवराज को पत्र लिखकर पहले की तरह पूर्व सैनिकों को 10 फीसदी आरक्षण देने की मांग की है। जबकि, हाल ही में पूर्व सैनिकों को आरक्षण दिलाने का आश्वासन देने वाले सिंधिया इस पूरे परिदृश्य से गायब हैं।

सीएम को संबोधित पत्र में दिग्विजय सिंह ने लिखा है कि, 'मध्य प्रदेश पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा 2020 में सम्मिलित भूतपूर्व सैनिक एवं महिला अभ्यार्थियों के प्रतिनिधि मंडल द्वारा मुझे अवगत कराया गया है कि भर्ती परीक्षा वर्ष 2020 में भूतपूर्व सैनिकों को 10 प्रतिशत आरक्षण के लाभ से वंचित रखा गया है। उन्होंने बताया कि प्रोफेशनल एग्जाम बोर्ड PEB द्वारा जारी की गई नियम पुस्तिका में भूतपूर्व सैनिकों को 10 प्रतिशत आरक्षण दिए जाने का उल्लेख किया गया था। किंतु बोर्ड द्वारा जारी किए गए प्रारंभिक परिणामों में आरक्षण प्रक्रिया का पालन नहीं किया गया है।'

राज्यसभा सांसद ने आगे लिखा है कि, 'PEB ने भर्ती परीक्षा के परिणाम जारी करने के उपरांत परिणामों में हेरफेर कर क्वालिफाइड अभ्यार्थियों को भी बाद में अनक्वालिफाइड कर दिया है। PEB के इस कृत्य से स्पष्ट होता है कि बोर्ड द्वारा अनियमितताएं कर अभ्यार्थियों के जीवन से खिलवाड़ किया जा रहा है। बताया गया है कि महिला अभ्यार्थियों को दिए जाने वाले 33 प्रतिशत आरक्षण में भी अनेक विसंगतियां की गई है।'

सिंह ने अनुरोध किया है कि भर्ती परीक्षा 2020 में पूर्व सैनिकों के लिये आरक्षित 10 फीसदी आरक्षण का पालन कराते हुए पुनः परीक्षा परिणाम जारी किया जाए। साथ ही परीक्षा परिणामों में हुई गड़बड़ी की उच्च स्तर से जांच कराते हुए अभ्यार्थियों को न्याय दिलाएं। उन्होंने कहा कि, 'आरक्षण में अनियमितता करने वाले अधिकारियों के खिलाफ मप्र आरक्षण अधिनियम 1994 के प्रावधानों के अनुरूप FIR दर्ज कराई जाए। तभी गरीब एवं वंचित वर्ग के लोगों के प्रति आपकी कथनी और करनी में एकरूपता नजर आएगी।'

यह भी पढ़ें: ग्वालियर में पूर्व सैनिकों ने रोका महाराज का काफिला, सिंधिया वापस जाओ के लगाए नारे

एमपी के पूर्व सैनिक लगातार अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन कर रहे हैं। हाल ही में ग्वालियर पहुंचे केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी पूर्व सैनिकों ने रोक लिया था। इस दौरान सैंकड़ों की संख्या में मौजूद इन सैनिकों ने "सिंधिया वापस जाओ" के नारे भी लगाए। स्थिति को भांपते हुए सिंधिया अपनी गाड़ी से नीचे उतरे, उन्हें आश्वासन दिया कि उन्हें आरक्षण का लाभ मिलेगा.. लेकिन इसके बाद सिंधिया ने उनकी कोई सुध नहीं ली। दुखी सैनिकों ने इसके बाद दिग्विजय सिंह से आरक्षण की मांग को लेकर गुहार लगायी है। जिसके पक्ष में सिंह ने सीएम शिवराज को ये पत्र लिखा है।