ग्वालियर में नकली सीमेंट निर्माता गिरोह का भंडाफोड़, राख पाउडर से बनाते थे अल्ट्राटेक सीमेंट

रेत, मिट्टी और राख पाउडर से ब्रांडेड कंपनी का सीमेंट बनाकर बाजार में हो रही थी सप्लाई, छापे में 300 बोरी नकली सीमेंट बरामद, खरीददारों को हो रही है खोज

Updated: Sep 27, 2022, 04:21 PM IST

ग्वालियर में नकली सीमेंट निर्माता गिरोह का भंडाफोड़, राख पाउडर से बनाते थे अल्ट्राटेक सीमेंट

ग्वालियर। मध्य प्रदेश के ग्वालियर से एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। पुलिस ने यहां एक नकली सीमेंट बनाने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है। इस गिरोह के लोग ग्वालियर और आसपास के इलाकों में फर्जी सीमेंट सप्लाई कर रहे थे। जबकि बोरी देखने से यही लगता कि सीमेंट ओरिजनल है।

दरअसल, ग्वालियर के जहांगीरपुरी में क्राइम ब्रांच ने नकली सीमेंट की एक फैक्ट्री पकड़ी है। फैक्ट्री में मिट्‌टी, रेत व राख पाउडर को मिलाकर नकली सीमेंट बनाई जा रही थी। इस नकली सीमेंट को अल्ट्राटेक के बैग में रखकर उसी ब्रांड के नाम से मार्केट में सप्लाई किया जा रहा था। चूंकि, अल्ट्राटेक का एक बैग बाजार में 370 रुपए का आता है। जबकि वे 350 रुपए में एक सीमेंट का बैग दे रहे थे। इसी कारण इनका माल तेजी से बाजार में बिक रहा था।

एडिशनल एसपी ग्वालियर राजेश दंडोतिया ने बताया कि अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी ने शिकायत की थी कि मुरार के जहांगीरपुरी में अल्ट्राटेक के नाम से नकली सीमेंट तैयार किया जा रहा है। जब क्राइम ब्रांच ने यहां छापा मारा तो मौके पर दो गोदाम बने मिले, जिनमें 200 से अधिक नकली सीमेंट से भरी बोरियां और 5000 नकली बारदाना भी बरामद हुआ। 

यह भी पढ़ें: भर्ती सत्याग्रह के सातवें दिन युवाओं ने शुरू किया क्रमिक अनशन, मांगें नहीं मानी तो करेंगे जेल भरो आंदोलन

आरोपी जेपी कंपनी का जैकेट सीमेंट दोबारा से तैयार कर अल्ट्राटेक की बोरियों में भर रहे थे और इसे बाजार में सप्लाई करने की तैयारी थी। एक अन्य गोदाम से 100 बोरी नकली सीमेंट बरामद हुई। मैनेजर सहित पुलिस ने दो को हिरासत में लिया है। फिलहाल उससे पूछताछ की जा रही है। बता दें कि ग्वालियर में नकली सीमेंट गिरोह का ये कोई पहला मामला नहीं है। बल्की यहां कई सालों से इस तरह के गिरोह सक्रिय हैं।

पिछले साल भी पुलिस ने शंकरपुर गांव में दबिश देकर नकली सीमेंट बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया था। इस सजफंर पुलिस को मौके से नकली सीमेंट की 500 बोरियां बरामद हुई हैं। सीमेंट को अलग अलग ब्रांडेड कंपनियों के नाम पर बेचा जाता था।