भोपाल में तेजी से फैल रहा है डेंगू, गुरुवार को 11 नए मामले सामने आए, गांधी मेडिकल कॉलेज में हड़कंप

कोरोना की तीसरी लहर की आहट के बीच मध्य प्रदेश में डेंगू की एंट्री, राजधानी भोपाल में बरपाया कहर, एक दिन में मिले 11 संक्रमित, चिकनगुनिया के भी चार मरीज आए सामने

Updated: Sep 03, 2021, 12:59 PM IST

भोपाल में तेजी से फैल रहा है डेंगू, गुरुवार को 11 नए मामले सामने आए, गांधी मेडिकल कॉलेज में हड़कंप
Photo Courtesy: Medicine.net

भोपाल। कोरोना के तीसरी लहर की आहट के बीच मध्य प्रदेश में अब डेंगू ने भी पांव पसारना शुरू कर दिया है। मध्य प्रदेश के कई जिलों में जानलेवा डेंगू बुखार की एंट्री हो चुकी है। राजधानी भोपाल में डेंगू सबसे ज्यादा कहर बरपा रहा है। स्थिति का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि गुरुवार को डेंगू के 11 नए मामले दर्ज किए गए।

भोपाल में गुरुवार को मिले 11 में से पांच गांधी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर शामिल हैं। इसके अलावा साकेत नगर व नेहरू नगर में डेंगू के मरीज मिले हैं। एक दिन में अबतक का यह सर्वाधिक मामला है। इस साल डेंगू के सबसे ज्यादा मरीज साकेत नगर में ही मिले हैं।

यह भी पढ़ें: सीएम ने तो भगवा कर ही दिया है, अब आप भी पूरे MP को भगवा कर दो, यशोधरा राजे का विवादित बयान

गुरुवार को भोपाल में चिकनगुनिया के भी चार पॉजिटिव मामले दर्ज किए गए हैं। इनमें से कुछ मरीज ऐसे भी हैं जो एक साथ डेंगू और चिकनगुनिया दोनों से पीड़ित हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक डेंगू और चिकनगुनिया दोनों एडीज मच्छर से फैलती है, इसलिए कुछ मरीजों में दोनों बीमारियां भी देखने को मिल रही हैं। भोपाल में इस साल डेंगू के करीब 100 और चिकनगुनिया के 27 केस सामने आए हैं। 

डेंगू से बचने के उपाय

राजधानी में डेंगू के बढ़ते प्रकोप ने हेल्थ एक्सपर्ट्स की चिंताएं बढ़ा दी है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक डेंगू के प्रकोप से बचने के लिए पानी का जमाव नहीं होने देना चाहिए। क्योंकि डेंगू फैलाने वाला एडीज मच्छर जमा साफ पानी में ही जन्म लेता है। इसके लिए कूलर का पानी, फ्रीज में लगने वाले ट्रे का पानी नियमित अंतराल पर बदलते रहना चाहिए। साथ ही यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि घर में या छत पर पानी का जमाव न हो। साथ ही दिन में मछड़दानी लगाएं क्योंंकि यह मच्छर दिन में ही काटता है।