कोरोना संक्रमित राज्यों में 7 वें स्थान पर मध्यप्रदेश, एक महीने में 80 हज़ार और मामले बढ़ने के आसार

सरकारी रिकॉर्ड और राजधानी भोपाल में हुए कोरोना शवों के अंतिम संस्कार के आंकड़ों में एक बार फिर बड़ा अंतर देखने को मिला है, सरकारी रिकॉर्ड के मुताबिक भोपाल में सोमवार को कोरोना से दो लोगों की मृत्यु हुई, जबकि भोपाल शवदाह गृह में 15 कोरोना शवों को जलाने की खबर है

Updated: Apr 06, 2021, 10:48 AM IST

कोरोना संक्रमित राज्यों में 7 वें स्थान पर मध्यप्रदेश, एक महीने में 80 हज़ार और मामले बढ़ने के आसार
Photo Courtesy: New Indian Express

भोपाल। प्रदेश में कोरोना के कोहराम के बीच अब देशभर में कोरोना से संक्रमित होने वाले राज्यों में मध्यप्रदेश सातवें पायदान पर पहुंच गया है। मध्यप्रदेश एक ही दिन में आठवें से सातवें पायदान पर पहुंचा है। मध्यप्रदेश ने यह स्थान पंजाब को पीछे कर हासिल किया है। कोरोना से संक्रमित राज्यों में मध्यप्रदेश से अब महाराष्ट्र, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, केरल, कर्नाटक, दिल्ली और तमिलनाडु जैसे राज्य ही आगे हैं। प्रदेश में कुल 22 हज़ार 654 कोरोना के एक्टिव केस हैं। 

सोमवार को मध्यप्रदेश में कोरोना के 3398 मामले सामने आए। मध्यप्रदेश में अब 52 ज़िलों में से 50 ज़िले ऐसे हैं जिसमें कोरोना के 50 से ज़्यादा मामले हैं। प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना बेकाबू हो चुका है। सोमवार को भोपाल में 582 कोरोना के मरीज़ मिले। भोपाल में इस समय कुल 4495 लोग कोरोना से संक्रमित हैं।

यह भी पढ़ें : अगर कमल नाथ ने सही केसों में कार्रवाई की होती तो उनकी सरकार नहीं गिरती, वीडी शर्मा पर विवेक तन्खा ने साधा निशाना

दूसरी तरफ राज्य सरकार पर कोरोना से मौत के आंकड़ों में हेराफेरी के लगातार आरोप लग रहे हैं। सरकारी आंकड़े के मुताबिक सोमवार को भोपाल में केवल दो लोगों की कोरोना के कारण मौत हुई। जबकि भोपाल में कोरोना के 17 शवों का अंतिम संस्कार किया गया।

फिलहाल प्रदेश के लोगों को कोरोना से निजात मिलने के आसार कम ही हैं। निकट भविष्य में मध्यप्रदेश में कोरोना के और विकराल रूप पकड़ने की संभावना है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों की मानें तो अगर कोरोना का कहर इसी रफ्तार से जारी रहा, तो एक महीने के भीतर मध्यप्रदेश में कोरोना से 80 हज़ार और लोग संक्रमित हो जाएंगे। कोरोना पर अगर लगाम नहीं लगाई गई तो अगले महीने की शुरुआत तक मध्यप्रदेश में कोरोना से एक लाख से अधिक लोग संक्रमित हो जाएंगे। 

यह भी पढ़ें : जब भी जनता को सरकार की ज़रूरत होती है तो शिवराज जी उपवास पर बैठ जाते हैं, शिवराज के स्वास्थ्य आग्रह कर कमल नाथ का वार

वहीं मुख्यमंत्री ने प्रदेश में कोरोना पर काबू पाने के लिए स्वास्थ्य आग्रह पर बैठने का निर्णय किया है। शिवराज सिंह चौहान आज दोपहर 12.30 बजे से भोपाल में मिंटो हॉल में स्थित गांधी प्रतिमा के सामने 24 घंटे के लिए स्वास्थ्य आग्रह पर बैठेंगे। पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने शिवराज के स्वास्थ्य आग्रह पर हमला बोलते हुए कहा है कि जब भी प्रदेश की जनता को सरकार की ज़रूरत होती है, शिवराज सिंह चौहान जनता का मुद्दे से ध्यान भटकाने के लिए उपवास पर बैठ जाते हैं।