CM शिवराज के गृह जिले में मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं लोग, कलेक्टर बोले- ठेकदार ने सत्यानाश कर दिया

कलेक्टर प्रवीण कुमार सिंह आष्टा विकासखंड के गांव में औचक निरीक्षण करने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि मूलभूत सुविधाएं बिजली और पानी तक नहीं है।

Updated: Jan 04, 2023, 07:38 PM IST

CM शिवराज के गृह जिले में मूलभूत सुविधाओं से वंचित हैं लोग, कलेक्टर बोले- ठेकदार ने सत्यानाश कर दिया

सीहोर। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले में लोग बिजली और पानी जैसी मूलभूत सुविधाओं से भी वंचित हैं। भले ही राज्य सरकार इसे खारिज कर दे, लेकिन स्वयं सीहोर कलेक्टर भी इस बात से सहमत नज़र आए। सीहोर कलेक्टर का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वह कह रहे हैं कि, "ठेकेदार ने सत्यानाश कर दिया। लोगों की दो ही जरूरत की चीजें हैं। एक तो बिजली, दूसरा पानी है. पानी वाले ने भी मार डाला और बिजली वाले ने भी मार डाला।"

दरअसल, मंगलवार को सीहोर कलेक्टर प्रवीण कुमार सिंह आष्टा विकासखंड के कुंडियानाथू गांव में औचक निरीक्षण करने पहुंचे थे। निरीक्षण के वक्त का एक एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें कलेक्टर कह रहे हैं कि सत्यानाश कर दिया पूरे गांव का। कलेक्टर ने फोन कर मौके पर ही एई को बुलाया। कलेक्टर को फोन पर कहते हैं कि लोगों की दो ही जरुरत की चीजें एक तो बिजली, दूसरा पानी है। पानी वाले ने भी मार डाला और बिजली वाले ने भी मार डाला।

यह भी पढ़ें: सभी धर्मांतरण अवैध नहीं, सुप्रीम कोर्ट से मध्य प्रदेश सरकार को झटका, हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगाने से इनकार

बता दें कि जलजीवन मिशन में बेहतर कार्य करने के लिए कलेक्टर प्रवीण सिंह को प्रदेश स्तर पर सम्मानित किया गया है। उनके कार्यों से प्रभावित होकर सीएम शिवराज ने उन्हें अपने गृह जिले में नियुक्त किया है। सीएम ने उन्हें लोगों की मूलभूत जरुरतों का खास ध्यान रखने के निर्देश दिए थे। सीएम के निर्देशों के बाद सीहोर कलेक्टर प्रवीण कुमार सिंह मंगलवार को आष्टा विकासखंड के पांच गांवों का औचक निरीक्षण करने जा पहुंचे। 

कलेक्टर ने इस दौरान आष्टा विकासखंड के ग्राम बीलखेड़ी सडक़, अतरालिया, जावर, खड़ीहाट, कुंडिया नाथू में लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अंतर्गत पेयजल योजनाओं के चल रहे कार्यों का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान ठेकेदारों द्वारा कराए जा रहे गुणवत्ताहीन कार्यों पर उन्होंने नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कुछ कार्यों को निरस्त किया और कुछ ठेकेदारों को कार्य पूर्ण करने की समय सीमा निर्धारित कर अंतिम अवसर दिया है।

बताया जा रहा है कि निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने पंजाब व अहमदाबाद की निर्माण एजेंसियों के संचालकों को फटकार भी लगाई। कलेक्टर ने ग्राम भील खेड़ी सड़क में टंकी के पास बने वाल्व चेंबर पंपवेल की गुणवत्ता संतोषजनक न पाए जाने पर कॉन्ट्रैक्टर आर के बिल्डर (भटिंडा पंजाब) से बात कर नाराजगी जताई और बचे हुए काम 15 दिन में पूरा करने का निर्देश दिया।