कांग्रेस के 8 पार्षद प्रत्याशी ऐसे जो 1 वोट से हार गए चुनाव, पूरे प्रदेश में एक वोट से हारने वालों की संख्या 17

बीजेपी पांच और कांग्रेस आठ सीटों पर एक वोट की वजह से जीत हासिल करने में नाकाम रही है, इसके अलावा चार निर्दलीय भी ऐसे रहे, जिन्हें सिर्फ एक वोट के लिए चुनाव में हार का सामना करना पड़ा

Updated: Jul 18, 2022, 10:53 AM IST

कांग्रेस के 8 पार्षद प्रत्याशी ऐसे जो 1 वोट से हार गए चुनाव, पूरे प्रदेश में एक वोट से हारने वालों की संख्या 17
Photo Courtesy: Indiatoday

भोपाल। मध्य प्रदेश नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस के आठ प्रत्याशी ऐसे रहे जो महज 1 वोट से चुनाव हार गए। वहीं पूरे प्रदेश में एक वोट से हारने वालों की संख्या 17 है। इन सभी निर्वाचन क्षेत्रों में NOTA को एक से अधिक मत प्राप्त हुए हैं।

पार्षदों की इन 17 सीटों में से बीजेपी के पांच प्रत्याशी ऐसे हैं जो एक वोट से चुनाव हार गए हैं। वहीं कांग्रेस आठ सीटों पर एक वोट की वजह से जीत हासिल करने में नाकाम रही है। इसके अलावा चार निर्दलीय भी ऐसे रहे, जिन्हें सिर्फ एक वोट के लिए चुनाव में हार का सामना करना पड़ा। सतना के वार्ड संख्या 31 में कांग्रेस प्रत्याशी को एक वोट से हार मिली, वहीं नोटा को 31 वोट मिले। इसके अलावा सतना नगर निगम के वार्ड 15 में नोटा को 20 वोट मिले लेकिन कांग्रेस प्रत्याशी को मात्र एक वोट से हार का सामना करना पड़ा।

यह भी पढ़ें: 57 साल बाद ग्वालियर में कांग्रेस की ऐतिहासिक जीत, सिंधिया को अपने गढ़ में मिला बड़ा जख्म

अमरकंटक में वार्ड नंबर 9, महू गांव में वार्ड नंबर 8, सांवेर में वार्ड नंबर 11, चंडिया में वार्ड नंबर 12, अमरवाड़ा में वार्ड नंबर 1, कांताफोड में वार्ड नंबर 7, बदनावर में वार्ड नंबर 8, वार्ड नंबर 1 चिचली में, शाहपुर में वार्ड नंबर 9, मऊगंज में वार्ड नंबर 10, हनुमना में वार्ड नंबर 6, कोठी में वार्ड नंबर 2, सतना में वार्ड नंबर 15 और 31 और बरघाट में वार्ड नंबर 14, ऐसे चुनावी क्षेत्र हैं, जहां एक वोट से हार और जीत हुए हैं।