रिटायरमेंट के बाद शादी को तरसेंगे अग्निवीर, अग्निपथ योजना युवाओं को बर्बाद कर देगी: सत्यपाल मलिक

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि अग्निपथ योजना सेना और नौजवानों को बर्बाद कर देगी। यह योजना पूरी तरह से गलत है और इसे सरकार को जल्द से जल्द वापस ले लेना चाहिए।

Updated: Jun 27, 2022, 09:51 AM IST

रिटायरमेंट के बाद शादी को तरसेंगे अग्निवीर, अग्निपथ योजना युवाओं को बर्बाद कर देगी: सत्यपाल मलिक

बागपत। उत्तर प्रदेश के बागपत पहुंचे मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने अग्निपथ योजना को लेकर केंद्र सरकार पर कई सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने कहा है कि अग्निपथ योजना सेना और जवानों के लिए बर्बादी का सबब बनेगी।भारतीय सेना का तो नुकसान होगा ही व्यक्तिगत रूप से युवाओं के जीवन पर भी इसका बुरा असर पड़ेगा। चार साल के लिए भर्ती होने वाले नौजवान रिटायर होने के बाद शादी के लिए भी तरस जाएंगे।

मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक रविवार को अपने मित्र दिवंगत नेता गजे सिंह धामा की मौत के बाद उनके आवास पर शोक प्रकट करने पहुंचे थे। यहां पत्रकारों से चर्चा के दौरान उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा सेना भर्ती के लिए लाई गई अग्निपथ योजना सेना और नौजवानों को बर्बाद कर देगी। यह योजना पूरी तरह से गलत है और इसे सरकार को जल्द से जल्द वापस ले लेना चाहिए। 

यह भी पढ़ें: भारत की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ और युवाओं के साथ धोखा है अग्निपथ स्कीम: अखिलेश प्रताप सिंह

सत्यपाल मलिक ने हरियाणा सीएम जगदीश खट्टर का नाम लिए बगैर कहा कि जो 4 साल सेना में नौकरी करने के बाद इन युवाओं को नौकरी देने की बात वह कर रहा है, जो दोबारा से मुख्यमंत्री भी नहीं बनेगा। उन्होंने इस दौरान कैलाश विजयवर्गीय के बयान की भी आलोचना की। उन्होंने कहा कि विजयवर्गीय को अपने बयान के लिए युवाओं से माफी मांगनी चाहिए। एक निजी टीवी चैनल से बातचीत में उन्होंने यहां तक कह दिया कि "फैक्ट यह है कि विजयवर्गीय तो गार्ड बनने लायक हैं, लोकतंत्र की वजह से एमपी बन गए हैं"

मलिक ने आगे कहा कि चैनल की डिबेट में सेना के अधिकारियों को बैठाना बिल्कुल गलत है। इससे सेना का सम्मान घट रहा है। उन्होंने स्वयं को लेकर कहा कि वह रिटायरमेंट के बाद कश्मीर पर किताब लिखेंगे और इसके अलावा युवाओं के साथ उनकी समस्याओं के साथ खड़े नजर आएंगे। एमएसपी पर पूछे गए सवाल पर बोलते हुए राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि सरकार ने किसानों से वादा किया था कि एमएसपी पर जल्दी कमेटी का गठन किया जाएगा, लेकिन इस बारे में अब सरकार पूरी तरह से चुप है, ना ही कमेटी बनी है और ना ही एमएसपी लागू हुई है। उन्होंने किसान आंदोलन के वक्त भी मोदी सरकार की आलोचना की थी और किसानों का साथ दिया था।