Provident Fund की वेबसाइट पर बड़ा Cyber Attack, 28 करोड़ नागरिकों की निजी जानकारी लीक

अभी तक उस हैकर की पहचान नहीं की हो सकी है, जिसके पास यह डाटा पहुंचा है, पीएफ खाताधारकों के लिए यह डाटा लीक नुकसानदेह साबित होगा, विपक्षी दल कांग्रेस ने डिजिटल सिक्योरिटी को लेकर सवाल खड़ा करते हुए कहा है कि डिजिटल इंडिया सिर्फ जुमलों तक सीमित है

Updated: Aug 09, 2022, 03:56 PM IST

Provident Fund की वेबसाइट पर बड़ा Cyber Attack, 28 करोड़ नागरिकों की निजी जानकारी लीक

नई दिल्ली। प्रोविडेंट फंड (PF) के 28 करोड़ से अधिक खाताधारकों के अकाउंट की जानकारी लीक हो चुकी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, PF की वेबसाइट की यह हैकिंग इस महीने के शुरुआत में हुई है। यूक्रेन के एक साइबर सिक्योरिटी रिसर्चर Bob Diachenko ने इस बात की जानकारी जानकारी दी है। 

बॉब ने 1 अगस्त 2022 को एक लिंकडिन पोस्ट के माध्यम से इस हैकिंग के बारे में जानकारी दी है। रिपोर्ट के अनुसार, इस डाटा लीक में UAN नंबर, नाम, वैवाहिक स्थिति, आधार कार्ड की पूरी डीटेल, लिंग और बैंक अकाउंट की पूरी जानकारी शामिल हैं।Diachenko के अनुसार, दो अलग-अलग आईपी एड्रेस से यह डाटा लीक किया गया है। ये दोनों आईपी Microsoft's Azure cloud से जुड़े हुए हैं।

यह भी पढ़ें: अगस्त क्रांति मैदान में भारत छोड़ो आंदोलन दिवस का आयोजन, सोनिया गांधी का पत्र लेकर पहुंचे दिग्विजय सिंह

फिलहाल इस बात की भी जानकारी नहीं मिल पाई है 28 करोड़ यूजर्स का डाटा कब से ऑनलाइन उपलब्ध है। इन डाटा का इस्तेमाल हैकर गलत तरीके से भी कर सकता है। लीक हुई जानकारियों के आधार पर लोगों की फर्जी प्रोफाइल तैयार की जा सकती है। इस हैकिंग की जिम्मेदारी अभी तक किसी एजेंसी या हैकर ने नहीं ली है।

लीक की खबर सामने आने के बाद विपक्षी दल कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस ने कहा कि, 'तथाकथित 'डिजिटल इंडिया' में जनता की जानकारी लीक हो रही है, डिजिटल सुरक्षा' की तरफ ध्यान कब दिया जाएगा? डिजिटल इंडिया सिर्फ जुमलों तक सीमित है।