अब हवाई और समुद्री यात्रा के दौरान भी मिलेगी मोबाइल कनेक्टिविटी, BSNL को मिला लाइसेंस

सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल के उपभोक्ताओं के लिए बड़ी खबर, जल्द ही अब आप हवाई जहाज में भी उठा पाएंगे नेटवर्क कनेक्टिविटी का फायदा, शिप में भी रहेगा नेटवर्क

Updated: Oct 21, 2021, 12:17 PM IST

अब हवाई और समुद्री यात्रा के दौरान भी मिलेगी मोबाइल कनेक्टिविटी, BSNL को मिला लाइसेंस
Photo Courtesy: India Today

नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनी बीएसएनएल के उपभोक्ताओं के लिए बड़ी खुशखबरी है। बीएसएनएल यूजर्स को अब हवाई और समुद्री यात्रा के दौरान भी कनेक्टिविटी मिलेगी। ग्लोबल मोबाइल सैटेलाइट संचार के क्षेत्र में काम करने वाली प्रमुख कंपनी इनमारसैट ने बीएसएनएल को यह लाइसेंस दे दिया है।

इनमारसैट ने बुधवार को इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि हमारी रणनीतिक भागीदार भारत संचार निगम लिमिटेड  (BSNL) ने भारत में ग्लोबल एक्सप्रेस (GX) मोबाइल ब्रॉडबैंड सेवाओं लिए आवश्यक लाइसेंस हासिल कर लिया है। इनफ्लाइट एंड मैरीटाइम कनेक्टिविटी (IFMC) लाइसेंस के तहत GX सरकार, विमानन और समुद्री क्षेत्र में भारतीय ग्राहकों के लिए उपलब्ध होगा।

यह भी पढ़ें: प्रियंका का ऑन स्पॉट एक्शन, छात्राओं ने बताई स्मार्टफोन और स्कूटी की जरूरत तो घोषणापत्र में शामिल की मांग

इससे भारतीय घरेलू एयरलाइंस और अंतरराष्ट्रीय विमानन कंपनियां देश के ऊपर से उड़ान के दौरान भी उच्च गति की संपर्क सुविधा प्रदान कर सकेंगी। सीधे शब्दों में कहा जाए तो बीएसएनएल अपने यूजर्स को हवाई जहाज में यात्रा के दौरान भी इंटरनेट कनेक्टिविटी देगी। साथ ही समुद्री जहाज में यात्रा के दौरान भी यूजर्स को पूरा नेटवर्क कनेक्शन मिलेगा।

खास बात यह है कि यह सुविधा न सिर्फ भारत के समुद्री और आकाश क्षेत्र के लिए है, बल्कि वैश्विक स्तर पर कनेक्टिविटी मिलेगी। बीएसएनएल के प्रबंध निदेशक पीके पुरवार ने कहा, ‘GX को सरकार और मोबिलिटी बिजनेस ग्राहकों के लिए दुनिया की सबसे अच्छी हाई-स्पीड सैटेलाइट संचार सेवा के रूप में मान्यता प्राप्त है। हम भारत में उपभोगताओं के लिए इन सुविधाओं को उपलब्ध कराकर बेहद प्रसन्न हैं।'

कब से शुरू होगी ये सुविधा

इनमारसैट की तरफ से जारी बयान में विमानन कंपनी स्पाइसजेट ने कहा कि ‛हम इस साल के आखिर तक नए बोइंग 737 मैक्स विमान पेश करेंगे। इस विमान के साथ यात्रियों को नेटवर्क कनेक्टिविटी की सुविधा उपलब्ध कराने को लेकर हम उत्सुक हैं। ग्राहकों के लिए चरणबद्ध तरीके से यह सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।’ माना जा रहा है कि विमानों के डिजिटाइजेशन में यह बड़ी पहल है।