स्कूल गार्ड खुद को बताता था आर्मी कैप्टन, ISI पीछे पड़ गई, एजेंट बनाने को लड़कियों से कराई दोस्ती

महिलाओं को इंप्रेस करने के लिए स्कूल गार्ड बना सेना का फर्जी अफसर, नकली वर्दी और आईडी का भी किया जुगाड़, पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI ने हनीट्रैप में फंसाने के लिए बिछाए जाल

Updated: Jun 19, 2021, 06:25 PM IST

स्कूल गार्ड खुद को बताता था आर्मी कैप्टन, ISI पीछे पड़ गई, एजेंट बनाने को लड़कियों से कराई दोस्ती

नई दिल्ली। दिल्ली पुलिस ने एक स्कूल गार्ड को गिरफ्तार किया है। गार्ड पर आरोप है कि वह खुद को आर्मी का कैप्टन बताता था। वह ऐसा इसलिए करता था ताकि वह महिलाओं को इंप्रेस कर उन्हें अपनी जाल में फंसा सके। लेकिन मामला तब बिगड़ा जब इस गार्ड के जाल में पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ISI फंस गई। इसके बाद ISI इसे असली आर्मी ऑफिसर मानकर हनीट्रैप में फंसाने के लिए जाल बिछाने लगी और युवक आर्मी ऑफिसर बनकर विदेशी महिलाओं से रिश्ते बनाने में जुट गया।

इस पूरे मामले में न तो युवक को जानकारी थी कि ISI उसे फंसाने के लिए जाल बिछा रही है और न ही खुफिया एजेंसी को कभी अहसास हुआ कि जिसे वे आर्मी ऑफिसर समझ कर महिलाओं से दोस्ती करवा रहे हैं वह तो एक स्कूल का गार्ड है। जानकारी के मुताबिक साउथ दिल्ली पुलिस ने दोपहर करीब 3 बजे खूफिया इनपुट्स के आधार पर, इस नकली सेना अफसर को गिरफ्तार किया। पुलिस के मुताबिक जब उसे गिरफ्तार किया गया तब भी वह आर्मी की वर्दी पहने हुए था और एक लड़की के साथ डेट पर आया था।

पूछताछ के दौरान पता चला कि आरोपी दिल्ली के मोहन गार्डन इलाके में रहता है और उसका असली नाम दिलीप कुमार है जो उत्तम नगर के एक स्कूल मे सेक्युरिटी गार्ड की जॉब करता है। आरोपी अपना नाम कैप्टन शेखर बताता था। पुलिस को उसके पास से आर्मी का फर्जी आईडी कार्ड समेत कई चौंकाने वाली चीजें मिली है। मसलन उसके फोन में 100 से ज्यादा विदेशी महिलाओं के नंबर हैं, जिनसे वह वीडियो कॉल पर बात करता था। 

यह भी पढ़ें: मॉकड्रिल के दौरान 22 मरीजों की मौत मामले में अस्पताल को क्लीनचीट, प्रियंका बोलीं- इंक्वायरी की भी मॉकड्रिल कर दी

इनमें कई नंबर पाकिस्तान के थे, जिनके बारे में कहा जा रहा है कि आईएसआई ने उन्हें इससे दोस्ती करने के लिए कहा था। दिलीप ने पुलिस को बताया कि वह लड़कियों को आकर्षित करने के लिए सेना अधिकारी होने का ढोंग करता था। पूछताछ में पता चला कि उसने कुछ विदेशी नागरिकों के साथ वीडियो और तस्वीरें भी साझा की है। ऐसे में अब इस एंगल से जांच की जा रही है कि यह सिर्फ लड़कियों को रिझाने के लिए किया गया ढोंग है या इसका कोई लिंक देश की सुरक्षा से भी जुड़ा है। नकली आर्मी कैप्टन से मिलेट्री इंटेलीजेंस, स्पेशल सेल और IB की टीम पूछताछ कर रही है।