मंत्री टेनी के पुत्र को जेल में VVIP ट्रीटमेंट, बाहर से आता है पसंदीदा खाना और स्पेशल पान

लखीमपुर काण्ड के आरोपी आशीष मिश्रा की बैरक में लगाए गए हैं चार कूलर, 24 अप्रैल से जेल का खाना नहीं खाया, घर से आता है मनपंसद भोजन, खाने के बाद स्पेशल पान लेता है मंत्री पुत्र, दिन के 30 से 40 पान बाहर से मंगाए जाते हैं

Updated: Apr 29, 2022, 07:15 PM IST

मंत्री टेनी के पुत्र को जेल में VVIP ट्रीटमेंट, बाहर से आता है पसंदीदा खाना और स्पेशल पान

लखीमपुर खीरी। किसानों को थार से रौंदने वाले मंत्री पुत्र आशीष मिश्रा टेनी की जेल में खूब आवभगत हो रही है। गृह राज्य मंत्री टेनी के बेटे के लिए जेल में बाहर से छप्पन भोग आता है। जेल सूत्रों के मुताबिक आशीष मिश्रा पान का शौक़ीन है। जेल में प्रतिदिन उसके लिए 30 से 40 स्पेशल पान मंगाए जाते हैं। खाने पीने से लेकर रहने तक उसका खास इंतजाम किया गया है।

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक बैरक में उसके लिए चार कूलर लगवाए गए हैं। आशीष को सुरक्षा के मद्देनजर बैरक नंबर 20 में रखा गया है। उसे किसी प्रकार की कोई दिक्कत न हो, इसलिए बैरक में 24 अप्रैल से पहले ही नए गद्दे और चादर की व्यवस्था की गई थी। आशीष मिश्रा को अन्य कैदियों से अलग रखा गया है। 

यह भी पढ़ें: जगह नहीं मिले तो टॉयलेट में खोल दें शराब दुकान, SDM से बोलीं सांसद प्रज्ञा ठाकुर

भास्कर ने जेल प्रशासन के सूत्रों के हवाले से बताया है कि बीते 24 अप्रैल से आशीष मिश्रा ने जेल का खाना नहीं खाया है। रोजाना उसके लिए ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर घर से आता है। उसकी पसंद का ही खाना घर से पहुंचाया जाता है। इसके अलावा प्रतिदिन उसके लिए पान की व्यवस्था भी की जाती है। रोजाना करीब 30 से 40 पान मंत्री पुत्र को पहुंचाए जाते हैं। जिन्हें दिनभर में विशेष तौर पर लंच और डिनर करने के बाद वह खाता है। 

मंत्री पुत्र के लिए न सिर्फ जेल मैन्युअल का पूरी तरह से उल्लंघन किया जा रहा है, बल्कि यह कोर्ट के निर्देशों के भी खिलाफ है। ऐसे में अब राज्य सरकार और प्रशासन पर गंभीर सवाल खड़े हो रहे हैं। फिलहाल अधिकारियों ने इस मामले पर कोई बयान नहीं दिया है।