Digvijaya Singh: उचित शुल्क पर ऑक्सीजन की आपूर्ति तय करे मोदी सरकार

Oxygen crisis: राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को लिखा पत्र, ऑक्सीजन की कमी और कालाबाजारी पर सरकार की उदासीनता को बताया दुर्भाग्यपूर्ण

Updated: Sep 18, 2020 07:16 PM IST

Digvijaya Singh: उचित शुल्क पर ऑक्सीजन की आपूर्ति तय करे मोदी सरकार
Photo Courtesy: Deccan Herald

दिल्ली। राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने मध्यप्रदेश सहित देश के अनेक राज्यों में कोविड के उपचार में सर्वाधिक महत्वपूर्ण ऑक्सीजन की कमी और कालाबाजारी पर केंद्र सरकार की उदासीनता को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन को एक पत्र लिखा है। उन्होंने लिखा है कि कोविड-19 के उपचार में ऑक्सीजन अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी और उसकी कालाबाजारी का मुद्दा 16 सितंबर को राज्यसभा में उठाया था। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में दिए अपने वक्तव्य में इस विषय पर कोई चर्चा तक नहीं की।

राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने मांग की है कि सरकार राष्ट्रीय औषधि मूल्य निर्धारण प्राधिकरण (National Pharmaceutical Pricing Authority} द्वारा तय उचित मूल्य पर ऑक्सीजन की उपलब्धता सभी राज्यों में सुनिश्चित करे। खासतौर पर मध्यप्रदेश में जिस राज्य से सिंह वे संसद में प्रतिनिधित्व करते हैं।

दिग्विजय सिंह पत्र

गौरतलब है कि 16 सितंबर को राज्यसभा में सांसद दिग्विजय सिंह ने कोरोना पर चर्चा के दौरान ऑक्सीजन की कमी का मुद्दा उठाया था। उन्होंने ऑक्सीजन सिलेंडर की लगातार बढ़ती कीमतों और मध्यप्रदेश के देवास सहित अन्य स्थानों पर कोरोना मरीज़ों की मौत का ज़िक्र किया था। राज्यसभा में उन्होंने कहा था कि ऑक्सीजन सिलेंडर के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। सरकार आवश्यक वस्तु अधिनियम को बदल रही हैं। ऑक्सीजन सिलेंडर को भी इसके अंतर्गत लाया जाना चाहिए।

Click Digvijaya Singh: ऑक्सीजन सिलेंडर को आवश्यक वस्तु अधिनियम के अधीन लाएं

सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा था कि कोविड 19 महामारी के पहले ऑक्सीजन के दाम 10 रुपये प्रति घन मीटर थे, जो अब बढ़कर 50 रुपये प्रति घन मीटर हो गए हैं। जबकि इसके दामों की अधिकतम सीमा 17 रुपए प्रति घन मीटर तय की गई थी। उन्होंने कहा था कि आंध्र प्रदेश और तेलंगाना सहित देश में निजी अस्पताल मरीजों से मनमानी कीमत वसूली जा रही है। उन्होंने राज्यसभा में मध्यप्रदेश के देवास में ऑक्सीजन की कमी के कारण चार लोगों की मौत का मुद्दा भी उठाया था। उन्होंने कहा था कि देवास, दमोह, जबलपुर, छिंदवाड़ा में ऑक्सीजन की कमी के कारण मरीज मरने की कगार पर पहुंच गए हैं।

Click ऑक्सीजन नहीं मिलने से जबलपुर में कांग्रेस नेता की मौत, पत्नी ने मांगा न्याय

कांग्रेस नेता ने राज्यसभा में कहा था कि ऑक्सीजन नहीं मिलने से लोग परेशान हैं। सरकार को ऑक्सीजन की कालाबाजारी रोकने के लिए सख्त कदम उठाने चाहिए। उन्होंने मांग की थी कि ऑक्सीजन पर सीलिंग लागू करनी चाहिए। उन्होंने कहा था कि स्वास्थ्य मंत्री ने अपने लंबे भाषण में प्रधानमंत्री का तो बार बार उल्लेख किया लेकिन देश में ऑक्सीजन की कमी की बात नहीं की।