चमत्कार दिखाना है तो जोशीमठ की दरारें जोड़ कर दिखाएं, बागेश्वर सरकार को शंकराचार्य की खुली चुनौती

शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद का बागेश्वर धाम वाले पंडित धीरेंद्र शास्त्री को चुनौती, जोशीमठ के मकानों में आ रही दरारों को जोड़ दें, तब हम उनके चमत्कार को मान जाएंगे

Updated: Jan 22, 2023, 01:13 PM IST

चमत्कार दिखाना है तो जोशीमठ की दरारें जोड़ कर दिखाएं, बागेश्वर सरकार को शंकराचार्य की खुली चुनौती

रायपुर। बागेश्वर धाम सरकार के नाम से मशहूर स्वयंभू संत धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री इन दिनों अपनी चमत्कारी शक्ति वाले दावों को लेकर काफी चर्चा में हैं। शास्त्री पर अंधविश्वास को बढ़ाने और फैलाने का आरोप लग रहा है। इस विवाद में अब शंकरचार्य अविमुक्तेश्वरानंद की भी एंट्री हो गई है। सनातन धर्म के रक्षक कहे जाने वाले शंकराचार्य ने पंडित धीरेंद्र शास्त्री के चमत्कार को छलावा करार दिया है।

ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद सरस्वती ने बागेश्वर धाम सरकार को खुली चुनौती देते हुए कहा है कि वे जोशी मठ आकर धसकती हुई जमीन को रोककर दिखाएं, तब हम उनके चमत्कार को मान जाएंगे। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में पत्रकारों से बातचीत के दौरान जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद जी ने कहा, ''ये जो चमत्कार दिखा रहे हैं, ऐसे चमत्कार दिखाने वालों के लिए हम फूल बिछाएंगे की, आओ यह जो जोशीमठ में मकानों में दरार आ गई है, उसको जोड़ दो। हम उनको फूल बिछा कर ले आएंगे और फिर झुक कर के पलकों पर बिछा करके उनको वापस करेंगे।"

यह भी पढ़ें: चमत्कारी शक्तियां हैं तो प्रमाणित करें धीरेंद्र शास्त्री, हम सनातन धर्म में विश्वास रखते हैं पाखंड में नहीं: नेता प्रतिपक्ष

जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद जी ने आगे कहा, "सारे देश की जनता चमत्कार चाहती है कि कोई चमत्कार हो जाए। कहां हो रहा है चमत्कार। जो चमत्कार हो रहे हैं, अगर वह जनता की भलाई में हो तो हम उनकी जय-जयकार करेंगे, नमस्कार करेंगे। नहीं तो फिर ये चमत्कार छलावा है, इससे ज्यादा कुछ नहीं है। किसी के पास कोई अलौकिक शक्ति आ गई है और जादूगर की तरह छड़ी घुमा कर अचानक कुछ कर सकते हैं तो उन्हें यह करना चाहिए। हम लोग तो ऐसा चमत्कार नहीं जानते।"

शंकराचार्य ने चुनौती देते हुए कहा, "कोई ऐसा चमत्कारी पुरुष है तो धर्मांतरण रोक दे। लोगों की आत्महत्या रोक दे। लोगों के घरों में झगड़े हो रहे हैं, फसाद हो रहे हैं, सुमति ला दे। पूरा देश आकर एक-दूसरे से प्यार करने लग जाए। जो वर्गों में विद्वेष हो रहे हैं, उन वर्गों के विद्वेष को रोक दे। ऐसा कुछ जनता और राष्ट्र के लिए उपयोगी चमत्कार कर के दिखाए, तब हम उसको चमत्कारी पुरुष कह सकते हैं।"

यह भी पढ़ें: रीवा में शिव मंदिर पर चला बुलडोजर, भाजपा पर भड़की कांग्रेस ने कहा कार्यालय की शोभा बढ़ाने वास्ते तोड़ा मंदिर

बता दें कि नागपुर में पंडित धीरेंद्र शास्त्री के खिलाफ थाने में शिकायत भी की गई है। शास्त्री पर अंधविश्वास को बढ़ाने और फैलाने का आरोप लग रहा है। उन्हें मानने वाले कहते हैं कि पं. धीरेंद्र शास्त्री माइंड रीडिंग करते हैं। यानी लोगों के मन में चल रही बातों को पढ़ लेते हैं और तत्काल ही समस्या का समाधान भी सुझा देते हैं। भूत प्रेत से छुटकारा दिलाने से लेकर भक्तों की कोई भी समस्या हो वे दूर कर देते हैं। शास्त्री का दावा है कि उन्होंने "ईश्वर की कृपा " और "सनातन धर्म के मंत्रों की शक्ति" से ये कौशल हासिल किया है।