US Elections: चुनाव के दिन शराब की बिक्री से पक्की हो गई थी बाइडेन की जीत

चुनाव के आखिरी दिन 75 फीसदी ज्यादा रही शराब की बिक्री, वहीं ट्रम्प समर्थकों ने मात्र 33 फीसदी ज्यादा शराब ख़रीदी

Updated: Nov 07, 2020, 08:42 PM IST

US Elections: चुनाव के दिन शराब की बिक्री से पक्की हो गई थी बाइडेन की जीत
Photo Courtesy : O jornal

अमेरिका में 3 नवंबर को हुए राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों की घोषणा भले ही अब तक नहीं हो पाई है लेकिन शराब के खरीददारों ने चुनाव के दिन ही यह तय कर दिया था कि अमेरिका का अगला राष्ट्रपति कौन होगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक डेमोक्रेटिक पार्टी की सरकार वाले राज्यों (ब्लू स्टेट) में शराब और दूसरे एल्कोहलिक ड्रिंक्स की बिक्री में 75 फीसदी की बढ़ोतरी हुई। वहीं, रिपब्लिकन पार्टी की सरकार वाले राज्यों में यह आंकड़ा मात्र 33 फीसदी रहा। 

अमेरिका की एक कंपनी ने इलेक्शन के दिन देशभर में हुई शराब की खपत के आंकड़े जारी किए हैं। इन आंकड़ों को देखकर यह स्पष्ट है कि बाइडेन के शराब पीने वाले समर्थकों ने उसी दिन जीत का जश्न मना लिया था वहीं ट्रम्प के समर्थकों ने अपनी हार सामने महसूस कर ली थी।

और पढ़ें: चुनाव में पिछड़े ट्रंप की बाइडेन से अपील

स्विंग स्टेट्स ने भी मना लिया था जश्न

खास बात यह है कि स्विंग स्टेट्स में भी समर्थकों ने चुनाव के दिन ही जश्न मना लिया था। स्विंग स्टेटस में शराब की खपत में 55 फीसदी का इजाफा हुआ जिससे साफ है कि स्विंग स्टेटस भी बाइडेन के साथ थे। बता दें कि स्विंग स्टेट्स उन राज्यों को कहा जाता है जहां किसी पार्टी का स्ट्रॉन्ग होल्ड नहीं हो। यहां के मतदाता अपनी पसंद बदलते रहते हैं। इस बार के चुनाव में 9 राज्यों को स्विंग स्टेट्स माना गया था।

समर्थकों ने सबसे पहले भांप लिया था जनता का मूड

अमेरिका में शराब बिक्री की यह रिपोर्ट आने के बाद अब इस बात की चर्चाएं होने लगी हैं कि दोनों दलों के समर्थकों ने सबसे पहले चुनाव का मूड भांप लिया था। जहां तमाम सियासी पंडित, मीडिया घराने किसी के जीत का दावा करने से कतरा रहे थे वहीं बाइडेन और ट्रम्प समर्थकों को पता था कि आने वाले दिनों में क्या होने वाला है।

और पढ़ें: ट्रंप के बेटे ने कश्मीर को पाकिस्तान में दिखाने वाला नक्शा ट्वीट किया, शशि थरूर ने जताया विरोध

खुशी या गम से नशे का सीधा संबंध

आमतौर पर यह माना जाता है कि लोग खुशी या गम में नशे का सेवन अधिक करते हैं। इंसान यदि दुखी होता है तो रेग्युलर से ज्यादा नशा करता है वहीं खुश होने पर मात्रा और भी बढ़ जाती है। यही हाल अमेरिका में बाइडेन और ट्रम्प समर्थकों का रहा जहां उन्होंने चुनाव वाले दिन ही शराब के सेवन के मात्रा से यह तय कर दिया था कि अमेरिका का भविष्य अब किसके हाथों में होगा।

कहां हुई कितनी बिक्री

सबसे ज्यादा शराब के खपत वाले ब्लू स्टेट्स में वॉशिंगटन, न्यूयॉर्क, न्यूजर्सी, कैलिफोर्निया, कनेक्टिकट, ओरेगन, मैसाच्युसेट्स, रोड्स आईलैंड, इलिनॉय शामिल हैं। वहीं ट्रम्प समर्थक रेड स्टेट्स में जहां शराब की बिक्री सबसे कम हुई वह व्योमिंग, इदाहो, लुसियाना, टेनेसी, मिसौरी और ओक्लाहोमा हैं। इसके अलावा स्विंग स्टेट्स जहां के लोगों ने भी ज्यादा नशा किया उनमें नॉर्थ कैरोलिना, ओहियो, एरिजोना, जार्जिया, पेंसिलवेनिया, कोलोराडो, फ्लोरिडा, मिनेसोटा और टेक्सास शामिल है।