IT Raids: मंत्री अरविंद भदौरिया के करीबी बिल्डर के पास करोड़ों की बेनामी संपत्ति

Faith Builders: बिल्डर्स, नेता और अफसरों का गठजोड़, कमलनाथ सरकार गिराने के दौरान भी चर्चा में आया था बिल्डर राघवेंद्र सिंह का नाम

Updated: Aug 27, 2020 11:53 PM IST

IT Raids: मंत्री अरविंद भदौरिया के करीबी बिल्डर के पास करोड़ों की बेनामी संपत्ति

भोपाल। मध्य प्रदेश के सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया के करीबी माने जाने वाले बिल्डर्स राघवेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गुप्ता चूड़ीवाला के यहाँ आयकर विभाग की कार्रवाई में बड़ी मात्रा में बेनामी संपत्तियों का खुलासा हुआ है। करीब 20 ठिकानों पर हुई छापे मार कार्रवाई में अब तक 1 करोड़ रुपए की नगदी और लगभग 200 करोड़ रुपए मूल्य की बेहिसाब प्रॉपर्टी मिली है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार फेथ ग्रुप, रियल एस्टेट और हॉस्पिटेलिटी के कारोबार से जुड़े कारोबारी राघवेंद्र सिंह तोमर और पीयूष गुप्ता चूड़ीवाला के यहाँ से कई दस्तावेज बरामद हुए हैं। फेथ बिल्डर्स के मालिक राघवेंद्र सिंह की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और मंत्री अरविंद भदौरिया के साथ की तस्वीरें वायरल होने के बाद उनके राजनीतिक संबंध उजागर हो गए हैं। रियल एस्टेट कारोबारी पीयूष गुप्ता का पुश्तैनी काम चूड़ियों का कारोबार था। वे पिछले चार से पांच सालों में गुप्ता प्रॉपर्टी के कारोबार में हैं। 

Click IT Raids: कांग्रेस ने पूछा बिल्डर का बीजेपी से क्या है रिश्ता

फेथ बिल्डर्स के मालिक राघवेंद्र सिंह ने रातीबड़ में फेथ क्रिकेट एकेडमी बना रहे हैं। राघवेंद्र ने अपने आईटी रिटर्न में इस एकेडमी के लिए जुटाए गए धन का स्रोत ठीक से नहीं बताया था। बताया जा रहा है राघवेंद्र के खिलाफ ईडी में शिकायत की गई थी। इसी शिकायत पर आयकर विभाग ने यह दबिश दी है।

बिल्डर्स, राजनेता और अफ़सरों का गठजोड़ 

राघवेंद्र सिंह तोमर होशंगाबाद एसपी संतोष सिंह के रिश्तेदार हैं। सहकारिता मंत्री अरविंद भदौरिया के करीबी हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की कार चलाते हुए फोटो वायरल हो चुकी है। मीडिया रिपोर्ट्स बता रही हैं कि कई राजनेताओं और बड़े अफसरों ने राघवेंद्र सिंह के कारोबार में पैसा लगाया हुआ है।

कांग्रेस सरकार गिराने में भी भूमिका!

कमलनाथ सरकार गिराने के दौरान भी बिल्डर राघवेंद्र सिंह का नाम काफी चर्चा में आया था। आरोप यह भी लगे थे कि विधायकों पर उसने काफी पैसा खर्च किया था। व्यापमं घोटाले में भी राघवेंद्र सिंह का नाम उछला था। बाद में उसे सरकारी गवाह बना दिया गया था। कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट कर कहा है कि फेथ बिल्डर्स समेत कई फर्म के मालिक राघवेंद्र सिंह की कई नेताओं से नजदीकी है। व्यापमं घोटाले के प्रीपीजी मामले में भी संदिग्ध रहे, हैं। मंत्री अरविंद भदौरिया ने कुछ दिन पूर्व ही सार्वजनिक तौर पर उन्हें अपना छोटा भाई बताया था। ऐसे राघवेंद्र सिंह तोमर के यहाँ पड़े आयकर छापों  के बाद सच्चाई सामने आने पर बीजेपी जवाब दे कि उनके मंत्री से क्या सम्बंध हैं?