समर का विज्ञान रथ फिर बढ़ रहा है, दिग्विजय के अश्व फिर सक्रिय हुए हैं: जीतू पटवारी

सजा ऐलान के बाद दिग्विजय सिंह के समर्थन में जीतू पटवारी का ट्वीट, लिखा- दिग्विजय के अश्व फिर सक्रिय हुए हैं, शत्रु के हिमवान गलते जा रहे हैं

Updated: Mar 28, 2022, 12:59 PM IST

समर का विज्ञान रथ फिर बढ़ रहा है, दिग्विजय के अश्व फिर सक्रिय हुए हैं: जीतू पटवारी

भोपाल। दिग्गज कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह को एक साल के कारावास के बाद मध्य प्रदेश की राजनीति गर्म है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के तमाम नेता पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह के समर्थन में उतर आए हैं। कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष जीतू पटवारी ने कुछ पंक्तियां लिखते हुए कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाया है। पटवारी ने लिखा कि समर का विज्ञान रथ फिर बढ़ रहा है, दिग्विजय के अश्व फिर सक्रिय हुए हैं।

दरअसल, जीतू पटवारी ने ये पंक्तियां कांग्रेस विधायक व दिग्विजय सिंह के बेटे जयवर्धन सिंह के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा है। राघोगढ़ एमएलए जयवर्धन सिंह लिखते हैं, 'सत्य परेशान हो सकता है, पराजित नहीं। हमने सदैव जनता की आवाज़ को बुलंद किया हैं, बीजेपी सरकार दबाने का कितना ही प्रयास कर ले, जनता के हित में उनकी आवाज़ को हमेशा बुलंद करते रहेंगे। सर्वत्र दिग्विजय, सर्वदा दिग्विजय।'

इसे रिट्वीट कर जीतू पटवारी ने लिखा कि, 'फिर नया इतिहास, पल -पल रच रहे हैं! अप्प दीपो भव, पुनः सम्बल बना है! समर का,विज्ञान रथ फिर, नव दिशा में, बढ़ रहा है! दिग्विजय के अश्व, फिर सक्रिय हुए हैं! शत्रु के हिमवान, गलते जा रहे हैं! नए प्रपंच भी, बढ़ते जा रहे हैं! लेकिन, हम, चलते जा रहे हैं! आगे ही बढ़ते जा रहे हैं!'

यह भी पढ़ें: व्यापमं पेपर लीक: CM के OSD ने कांग्रेस नेता केके मिश्रा और आनंद राय के खिलाफ दर्ज कराई FIR

पटवारी ने एक अन्य ट्वीट में प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष वीडी शर्मा पर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में सड़कों पर मौत का शिकार हुए गरीब की आह किसे लगेगी? मध्यप्रदेश की गौशालाओं में भूख/प्यास और अव्यवस्था से हुई गौ-हत्या का दोषी कौन है। वीडी शर्मा यदि अपनी ही समझ पर संदेह है, तो सियासी सयानों से समझ लो- "राजनीतिक गुंडों का मतलब समझ आ जाएगा!"

दरअसल, दिग्विजय सिंह को कारावास ऐलान होने के बाद वीडी शर्मा ने कहा था कि, 'राजनीतिक हिंसा कांग्रेस नेताओं के लिए नई बात नहीं है। दिग्विजय सिंह सड़कों पर गुंडागर्दी करते रहते हैं। शांतिपूर्ण तरीके से काले झंडे दिखाकर विरोध कर रहे भाजपा कार्यकर्ताओं पर दिग्विजय सिंह और साथियों द्वारा लाठी, तलवार से हमला कर जान से मारने की कोशिश करना गुंडागर्दी नहीं तो क्या है?'

बता दें कि बीते शनिवार को 11 साल पुराने एक मारपीट मामले में इंदौर डिस्ट्रिक्ट कोर्ट ने दिग्विजय सिंह समेत 6 लोगों को 1 साल कारावास का सजा सुनाया था। हालांकि, इसके बाद सिंह जमानत पर रिहा हो गए। सिंह ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह झूठा केस था और राजनीतिक दबाव में उनका नाम जोड़ा गया।