अब ड्रोन उड़ाना सीखेंगे एमपी के बच्चे, उड्डयन मंत्री सिंधिया ने किया ड्रोन स्कूल खोलने का ऐलान

मध्य प्रदेश के पांच बड़े शहरों भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और सतना में खुलेंगे ड्रोन स्कूल, नागरिक उड्डयन मंत्रालय करेगा संचालन, बच्चे सीखेंगे ड्रोन उड़ाने के गुर

Updated: Dec 11, 2021, 06:28 PM IST

अब ड्रोन उड़ाना सीखेंगे एमपी के बच्चे, उड्डयन मंत्री सिंधिया ने किया ड्रोन स्कूल खोलने का ऐलान

ग्वालियर। मध्य प्रदेश के बच्चे अब ड्रोन उड़ान सीखेंगे। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधीया ने पांच ड्रोन स्कूल खोलने का ऐलान किया है। सिंधिया ने कहा है कि ये ड्रोन स्कूल भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर और सतना में खुलेंगे और इनका संचालन उड्डयन मंत्रालय करेगा। सिंधिया के इस ऐलान पर सीएम शिवराज ने उनका आभार जताते हुए कहा कि मध्य प्रदेश को हम ड्रोन टेक्नोलॉजी में अग्रणी बनाने का संकल्प लेते हैं।

दरअसल, शनिवार को ग्वालियर में उड्डयन मंत्रालय द्वारा प्रदेश का पहला ड्रोन मेला लगाया गया था। केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने यहां मेले को संबोधित करते हुए कहा कि, 'ड्रोन टेक्नोलॉजी आने वाले समय की सबसे बड़ी जरूरत बनेगी। ड्रोन के जरिए स्वास्थ्य सेवाओं, कृषि, सुरक्षा सहित कई क्षेत्रों में मदद मिलेगी। ड्रोन के संचालन की परेशानियां कम करने के लिए मंत्रालय ने नियमों में सरलता की है। युवाओं के लिए ड्रोन उड़ाने की ट्रेंनिग, लायसेंस की प्रक्रिया भी आसान की गई हैं।' 

इस दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि, 'पीएम मोदी के कुशल नेतृत्व में वैभवशाली, गौरवशाली और शक्तिशाली भारत का निर्माण हो रहा है। यह ड्रोन मेला आप सभी की जिंदगी बदलने के अभियान की शुरुआत है। ड्रोन तकनीक से हम रोजगार के अवसर बढ़ाने के साथ जनकल्याण और विकास कार्यों को भी गति देने के प्रयास करेंगे। हम सभी मिलकर प्रयास करेंगे कि तकनीक के मामले में हमारा मध्यप्रदेश नंबर वन हो।' 

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि, 'ड्रोन की तकनीक हमारे जीवन में कई चुनौतियों को आसान बना कर विकास की राह खोल सकती है। किसानों के साथ आम नागरिकों को भी इससे काफी सुविधा होगी। बाढ़ सहित अन्य प्राकृतिक आपदाओं में बचाव कार्य में ड्रोन से खासी मदद मिलती है। आपातकाल में दवाएं आदि उपकरण ही पहुंचाने में ड्रोन की खासी भूमिका है।'