रीवा के अस्पताल में SISF जवान की पिटाई, जूनियर डाक्टर पर लगा आरोप

रीवा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में इलाज करवाने आए जवान को कमरे में बंद करके पीटने का आरोप, पुलिस ने केस किया दर्ज, मामले की जांच में जुटी पुलिस

Updated: May 28, 2021, 11:32 AM IST

रीवा के अस्पताल में SISF जवान की पिटाई, जूनियर डाक्टर पर लगा आरोप
Photo courtesy: Navbharat times

रीवा। रीवा के एक अस्पताल में डॉक्टरों और राज्य औद्योगिक सुरक्षाबल (SISF) जवान के बीच विवाद का मामला सामने आया है। जवान आकाश साहू का आरोप है कि रीवा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के जूनियर डॉक्टरों ने उसे कमरे में बंद करके पीटा है। जिससे उसे गंभीर चोट लग गई हैं, उसके शरीर पर चोट के निशान पड़ गए हैं।

 SISF जवान के जवान का कहना है कि उसके आला अधिकारी अस्पताल में भर्ती थे उसी दौरान उसकी भी तबीयत खराब हो गई, तभी वह अपना इलाज करवाने के लिए डॉक्टर के पास पहुंचा। डॉक्टर ने उसे देखने की वजाय पर्चा कटवाकर बाहर बैठा दिया। इधर तकलीफ बढ़ने पर वह दोबारा डॉक्टर के पास गया। डॉक्टर ने जवान को देखने की जगह उससे अभद्रता की जिसके बाद बात मारपीट तक पहुंच गई। आरोप है कि डॉक्टरों ने जवान को एक कमरे घंटे भर बंद रखा, इसबीच डॉक्टर ने अपने दर्जनभर साथियों को बुला लिया और जबरन मारपीट की। SISF जवान के शरीर पर चोट आई हैं।

जवान की मारपीट से अस्पताल में अफरा तफरी मच गई। डॉक्टरों की गिरफ्त से छूटे जवान ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों से मामले की शिकायत की। पुलिस और अस्पताल प्रबंधन मामले में समझौता करवाने में जुटे हैं। श्यामशाह मेडिकल कालेज के डीन डाक्टर मनोज इंदूलकर ने डाक्टरों को समझाइश दी है।

अमहिया थाना पुलिस ने जवान आकाश साहू की शिकायत पर मारपीट करने वाले जूनियर डॉक्टरों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। जूनियर डॉक्टर पृथ्वीराज सिंह, डॉ. रवि पाटिल, डॉं. देवेश गुप्ता, डॉ. शिव शक्ति ,डॉ. रजनीश मिश्रा, डॉ. अनिल चौहान, डॉ. अजय पाटीदार, डॉ. हृदेश दीक्षित समेत 4 अन्य लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। वहीं मामले में CCTV फुटेज की जांच की जा रही है।   प्रत्यक्षदर्शियों के बयान लिए जा रहे हैं।