सतना के इस ग्राम पंचायत की अनूठी पहल, स्वच्छता के लिए हर घर पर बांधा 10 रुपए टैक्स

मध्य प्रदेश के सतना में एक ग्राम पंचायत ने गांव को स्वच्छ रखने के लिए 10 रुपये प्रति माह का स्वच्छता शुल्क लगाने का फैसला किया है। पंचायत ने गांव में कचरा उठाने, कूड़ेदान लगाने और करीब 1 हजार पेड़ लगाने का भी प्रस्ताव पास किया है।

Updated: Oct 31, 2022, 06:20 PM IST

सतना के इस ग्राम पंचायत की अनूठी पहल, स्वच्छता के लिए हर घर पर बांधा 10 रुपए टैक्स

सतना। देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर से प्रेरणा लेकर सतना जिले की एक ग्राम पंचायत की सरपंच ने बड़ा फैसला लिया है। ग्राम पंचायत ने प्रति परिवार 10 रुपये प्रति महीने अनिवार्य स्वच्छता शुल्क के रूप में लगाया है। महिला सरपंच गीता पांडे की अध्यक्षता वाली बड़ा इत्मा पंचायत ने अगले कुछ महीनों में घर-घर कचरा उठाने, पूरे गांव में कूड़ेदान की स्थापना, अपशिष्ट जल प्रबंधन और 1,000 पेड़ लगाने सहित अन्य सुधारों के साथ यह प्रस्ताव पारित किया है।

जानकारी के मुताबिक बड़ा इत्मा पंचायत सतना जिले के रामनगर में स्थित है। लगभग 7 हजार लोगों की आबादी वाली इस पंचायत में 3 हजार 100 मतदाता हैं। 75 वर्षीय सरपंच गीता पांडे ने ग्राम सभा की ओर से 27 अक्टूबर को गांव की स्वच्छता को लेकर 10 रुपये का शुल्क प्रति महीने हर घर से लेने का प्रस्ताव रखा था। इस प्रस्ताव को सरपंच, उप सरपंच और सभी पंचों ने अपनी सहमति दे दी।

यह भी पढ़ें: CFL बल्ब और घड़ी बनाने वाली कंपनी को मिला था मोरबी ब्रिज मेंटेनेंस का ठेका, दिग्विजय सिंह ने उठाए महत्वपूर्ण सवाल

सरपंच गीता पांडे ने बताया कि गांव में घर-घर से कचरा उठाने के लिए एक गाड़ी खरीदी गई है। यह गाड़ी 1 नवंबर से हर घर से कचरा उठाने का काम शुरू करेगी। इसके साथ ही नवंबर के महीने से पंचायत के सभी घरों में 10 रुपये प्रति माह का अनिवार्य शुल्क भी लिया जाएगा। सरपंच ने बताया कि यह नागरिकों के ही विचार से किया गया है। बताया गया है कि पंचायत इस कर के एवज में अपशिष्ट जल प्रबंधन, पर्यावरण सुरक्षा और अन्य कार्य आगामी दिनों में प्रारंभ करेगी।

युवा समाजसेवी सुभाष पांडेय ने बताया कि वर्ष 2000 से लेकर 2005 तक रहे सरपंच स्वर्गीय राकेश कुमार पांडेय ने यहां के नागरिकों के लिए घर-घर पेयजल पहुंचाने की व्यवस्था की थी। इसके लिए 50 हजार लीटर की टंकी बनी है। इसी के माध्यम से पानी सप्लाई किया जाता है। पांडेय ने कहा कि ग्राम पंचायत पानी सप्लाई के लिए हर घर से 50 रुपए महीना जल कर ले रहा है। इसकी शुरुआत 2015 से हो गई थी। 

यह भी पढ़ें: जबलपुर में IMA की बैठक में जूतम पैजार, मंच पर डॉक्टरों के बीच जमकर चले लात-घुसे, वीडियो वायरल

इस बार की ग्राम सभा में पावती का प्रावधान भी किया गया है। उपसरपंच लोलवा कोल की अध्यक्षता में हुई ग्राम सभा में एक और निर्णय लिया गया। यहां सोमवार को साप्ताहिक बाजार लगता है। इस बाजार के लिए भी कर लिया जाएगा। हालांकि यह कितने रुपए का होगा यह प्रस्ताव में नहीं आया। कहा गया है कि इसके बदले में पंचायत स्वच्छता, प्रकाश और पेयजल की व्यवस्था करेगी। इसके अलावा आगामी दिनों में पक्का हाट बाजार उपलब्ध कराएगी। हाट बाजार के लिए सरपंच ने पंचायत एवं ग्रामीण विकास राज्य मंत्री को पत्र भी लिखा है।