जलसमाधि वाले महंत ने दी नई धमकी, बोले- सलमान खुर्शीद की किताब बैन करो वरना आत्मदाह कर लूंगा

महंत परमहंस ने कहा है कि यदि सरकार सनराइज ओवर अयोध्या पुस्तक को प्रतिबंधित नहीं करेगी तो वे आत्मदाह कर सकते हैं, इसके पहले वे सरयू नदी में जल समाधि की घोषणा कर सुर्खियों में आए थे

Updated: Nov 17, 2021, 10:32 AM IST

जलसमाधि वाले महंत ने दी नई धमकी, बोले- सलमान खुर्शीद की किताब बैन करो वरना आत्मदाह कर लूंगा

अयोध्या। सरयू नदी में जलसमाधि लेने का घोषणा कर सुर्खियों में आए अयोध्या के महंत परमहंस दास ने नई धमकी दी है। महंत परमहंस में इस बार कहा है कि मैं आत्मदाह कर लूंगा। इस बार उन्होंने कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद की पुस्तक सनराइज ओवर अयोध्या को बैन करने की मांग की है। 

महंत परमहंस ने जिला प्रशासन को प्रधानमंत्री मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम ज्ञापण सौंपा है। महंत ने कहा कि यदि सनराइज ओवर अयोध्या पुस्तक पर प्रतिबंध नहीं लगाया जाता है और कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद के खिलाफ राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज नहीं किया जाता है तो वह आमरण अनशन करेंगे साथ ही आत्मदाह भी कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: 20 साल में अमेरिका से ज्यादा अमीर हुआ चीन, दुनिया के सबसे अमीर देशों में नंबर वन

महंत परमहंस के मुताबिक इस पुस्तक के पेज नंबर 113 पर सैफरन स्काई चैप्टर में हिंदुत्व की तुलना आतंकी संगठन ISIS और बोको हरम से की गई है। उन्होंने कहा कि 100 करोड़ भारतीयों की तुलना आतंकी संगठन से करना हमारे राष्ट्र की अवमानना है। इसके पहले महंत ने कोतवाली अयोध्या में पुस्तक को लेकर तहरीर देकर राष्ट्रद्रोह की धारा में मुकदमा पंजीकृत करने की मांग की थी। लेकिन अबतक मुकदमा पंजीकृत नहीं हुआ जिसके बाद उन्होंने आत्मदाह की धमकी दे डाली।

बता दें कि महंत परमहंस बीते दिनों अपने वाचाल गुण की वजह से तब फंस गए थे जब उन्होंने जलसमाधि की धमकी दे डाली थी। इस दौरान उन्होंने कहा था कि 2 अक्टूबर को भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित किया जाए वरना मैं सरयू नदी में जल समाधि ले लूंगा। इस दौरान वे खुब चर्चा में आए और 2 अक्टूबर को मीडिया की नजर उनपर टिकी रही। हालांकि, पूरे दिन चले नाटकीय घटनाक्रम के बाद आखिरकार उन्होंने जलसमाधि नहीं ली थी।

यह भी पढ़ें: अपनी रैलियों में भीड़ जुटाने के लिए जनता की गाढ़ी कमाई का इस्तेमाल कर रही है बीजेपी: प्रियंका गांधी

इस दौरान कई लोग उन्हें यह कहकर उकसा रहे थे कि 'रघुकुल रीत सदा चली आई प्राण जाए पर वचन न जाई'। यह पहली या दूसरी बार नहीं है जब बाबा ने इस तरह की धमकी दी हो, वे अक्सर इस तरह की धमकियां देते रहे हैं। एक बार तो उन्होंने बंगाल हिंसा के खिलाफ आत्मदाह के लिए चिता भी बनवा लिया था। उन्होंने लकड़ियों की चिता के सामने मीडिया से कहा था कि इसी पर लेटकर आत्मदाह करूंगा। ऐसे में इस बार भी उनकी चेतावनी को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है।