असम: चुनाव आयोग ने हिमंत बिस्वा सरमा के एसपी भाई के ट्रांसफर के दिए आदेश, हेमंत के प्रचार पर भी लगी रोक

असम में 40 सीटों पर 6 अप्रैल को तीसरे फेज की वोटिंग होनी है, तीसरे चरण में ही गोलपाड़ा में चुनाव होने हैं

Updated: Apr 03, 2021, 04:56 PM IST

असम: चुनाव आयोग ने  हिमंत बिस्वा सरमा के एसपी भाई के ट्रांसफर के दिए आदेश, हेमंत के प्रचार पर भी लगी रोक
Photo Courtesy: Indian Express

 

नई दिल्ली/गुवाहाटी। बीजेपी विधायक कृष्णेंदु पॉल की कार में ईवीएम मिलने के बाद चुनाव आयोग ने सख्ती बरतना शुरू कर दिया है। असम में तीसरे चरण की वोटिंग से पहले चुनाव आयोग ने बीजेपी सरकार में वित्त मंत्री हिमंत बिस्वा सरमा के एसपी भाई सुशांत बिस्वा सरमा के ट्रांसफर के आदेश दिए हैं। इसके लिए चुनाव आयोग ने राज्य मुख्य निर्वाचन अधिकारी को पत्र लिखा है। 

दरअसल 6 अप्रैल को असम में तीसरे चरण की वोटिंग होनी है। गोलपाड़ा में भी तीसरे चरण के दौरान ही मतदान होने हैं। गोलपाड़ा के एसपी सुशांत बिस्वा सरमा हैं जो कि  हिमंत बिस्वा सरमा के भाई हैं। लिहाज़ा चुनाव आयोग ने सुशांत को वहां से हटाने के निर्देश दिए हैं। हालांकि चुनाव आयोग ने ही  हिमंत के भाई को पुलिस हेडक्वार्टर में अच्छे पद पर पदस्थ करने की सिफारिश की है। सुशांत की जगह चुनाव आयोग ने वीरा राकेश रेड्डी को गोलपाड़ा का एसपी नियुक्त करने के निर्देश दिए हैं। 

यह भी पढ़ें : प्रेमी के प्यार में पागल पत्नी ने ले ली अपने पति की जान, शराब के नशे में पत्थर से कुचला पति का सिर

फिलहाल  हिमंत बिस्वा सरमा पर चुनाव आयोग ने 48 घंटे की रोक लगा रखी है। सरमा 48 घंटे तक चुनाव प्रचार नहीं कर सकते। सरमा के खिलाफ यह कार्रवाई कांग्रेस के सहयोगी दल बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट के अध्यक्ष हगरमा मोहिलरी को जेल भेजने की धमकी देने के बाद की गई है।

यह भी पढ़ें : US कैपिटल हिल में फायरिंग, संदिग्ध कार ने अफसर को कुचला, खतरे के मद्देनजर इलाके को किया गया बंद

असम की 126 विधानसभा सीटों में से 86 सीटों पर मतदान हो चुके हैं। 6 अप्रैल को 40 सीटों पर मतदान होने हैं। 2 मई को असम के नतीजे आएंगे। बहुमत के लिए 64 सीटें जीतने की आवश्यकता है।