आर्थिक तंगहाली के कारण एक ही परिवार के 4 सदस्यों ने की आत्महत्या, बेटे और बेटी को फांसी पर लटकाने के बाद खुद झूल गए दंपत्ति

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर का मामला, दवा व्यापारी के बेटे और बेटी का शव एक कमरे में मिला, जबकि दूसरे कमरे में दंपत्ति का शव लटका हुआ था, मौके से सुसाइड नोट भी बरामद किया गया है

Updated: Jun 08, 2021, 02:08 PM IST

आर्थिक तंगहाली के कारण एक ही परिवार के 4 सदस्यों ने की आत्महत्या, बेटे और बेटी को फांसी पर लटकाने के बाद खुद झूल गए दंपत्ति
Photo Courtesy: APA.org

शाहजहांपुर। उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में एक ही परिवार के चार सदस्यों ने आत्महत्या कर ली। परिवार के आत्महत्या के पीछे आर्थिक तंगहाली को कारण माना जा रहा है। आत्महत्या करने वाले दवा व्यापारी अखिलेश गुप्ता पिछले काफी समय से कर्ज़ में डूबे हुए थे, जिस वजह से उनका पूरा परिवार तनाव से ग्रसित था। 

यह भी पढ़ें : मेहुल चोकसी ने किया खुद के साथ मारपीट का दावा, अपहरण में गर्लफ्रेंड का भी बताया हाथ

दरअसल सोमवार को एक परिचित ने अखिलेश गुप्ता को दवा के लिए फोन लगाया। अखिलेश गुप्ता द्वारा फोन न उठाने पर व्यक्ति कच्चे कटर स्थित दवा व्यापारी के घर पहुंचा। लेकिन घर में दाखिल होने के बाद उसकी हालत खराब हो गई। चश्मदीद ने आनन फानन में पुलिस को सूचना दी।

यह भी पढ़ें : मिज़ोरम के एक गांव में नहीं है इंटरनेट की सुविधा, ऑनलाइन परीक्षा देने के लिए पहाड़ी चढ़ रहे हैं छात्र

सूचना मिलने पर पुलिस जब अखिलेश गुप्ता के घर पहुंची तब घर के एक कमरे में अखिलेश के 12 वर्षीय बेटे शिवांग और दस वर्षीय बेटी हर्षिता शव फांसी के फंदे से लटका हुआ था। दूसरे कमरे में खुद 42 वर्षीय अखिलेश और उनकी पत्नी 39 वर्षीय रिशु गुप्ता का शव फांसी के फंदे से लटका हुआ मिला। पुलिस को घर से सुसाइड नोट भी बरामद हुआ, जिसमें इस बात का ज़िक्र था कि अखिलेश के ऊपर काफी कर्ज था। कर्ज देने वाला व्यक्ति भी काफी समय से परेशान कर रहा था, जिसके बाद उन्होंने यह कदम उठाया।

यह भी पढ़ें : देश में ब्लैक फंगस से 28 हज़ार से ज़्यादा मरीज़ पीड़ित, महाराष्ट्र और गुजरात सबसे ज़्यादा प्रभावित

42 वर्षीय अखिलेश गुप्ता दवा से जुड़ा काम करते थे। पिछले 15 वर्षों से शाहजहांपुर में रहते थे। हाल ही में उन्होंने अपना मकान बनवाया था, जिस वजह से उनके जीवन भर की पूंजी मकान में चली गई थी। पुलिस फिलहाल इस पूरे मामले को आत्महत्या मान कर चल रही है।