कीड़े में विटामिन होता है, चुपचाप खा लो, मिड-डे-मील में कीड़े की शिकायत पर प्रिंसिपल का जवाब

खाने में कीड़ा मिलने पर छात्रों ने मिड-डे-मील खाने से मना किया तो टीचर ने छात्र-छात्राओं को बुरी तरह पीटा, इस दौरान एक छात्रा का हाथ टूट गया।

Updated: Nov 14, 2022, 12:44 PM IST

कीड़े में विटामिन होता है, चुपचाप खा लो, मिड-डे-मील में कीड़े की शिकायत पर प्रिंसिपल का जवाब
Representative Image

वैशाली। हाल ही में बिहार के भागलपुर में मिड-डे मील का खाना खाने से करीब 200 छात्र बीमार पड़ गए थे। छात्रों ने शिकायत भी की थी कि खाने में छिपकली मिली थी। इस पर प्रिंसिपल ने कथित रूप से छात्रों से कहा था कि छिपकली नहीं बैगन है, खा लो। अब वैशाली जिले से भी ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां मिड-डे मील में कीड़ा निकल गया। छात्रों ने प्रिंसिपल से शिकायत की। प्रिंसिपल ने जवाब दिया कि कीड़ों में विटामिन होता है चुपचाप खा लो।

मामला वैशाली के लालगंज में अततुल्लाहपुर मिडिल स्कूल का है। 12 नवंबर को जब छात्र मिड-डे मील खाने बैठे तो उन्होंने खाने में कीड़े की शिकायत की। लेकिन प्रिंसिपल मो मिसवाउद्दीन ने शिकायत को नजरअंदाज कर दिया। इतना ही नहीं तर्क दिया कि कीड़े विटामिन का श्रोत होते हैं।

यह भी पढ़ें: भारत जोड़ो उपयात्रा के दौरान दिखी गंगा-जमुनी तहजीब, MLA आरिफ मसूद ने मां नर्मदा को अर्पित की चुनरी

लेकिन ये बात तब बढ़ गई जब कुछ छात्रों ने कीड़े वाला खाना खाने से इंकार कर दिया। जिसके बाद एक टीचर ने छात्रों की बेरहमी से पिटाई शुरू कर दी। मारपीट के दौरान एक छात्रा का हाथ टूट गया। आनन-फानन में छात्रा को इंजेक्शन और दवा दी गई। बाद में जब परिजनों को इस बात की जानकारी मिली तो वे भड़क गए। छात्रा के परिजनों व अन्य लोगों ने स्कूल में आकर जमकर बवाल काटा।

ग्रामीणों के हंगामे की खबर सुनकर ब्लॉक शिक्षा पदाधिकारी परशुराम सिंह मौके पर पहुंचे और लोगों को समझा-बुझाकर किसी तरह मामला शांत कराया। परशुराम सिंह ने दोनों आरोपी शिक्षकों की ग्रामीणों के सामने जमकर क्लास लगाई। उन्होंने ग्रामीणों को भरोसा दिलाया कि दोनों शिक्षकों के संबंध में विभाग को लिखा जाएगा जिसके बाद मामला शांत हो सका।

यह भी पढ़ें: गुजरात के चुनावी रण में उतरेंगे राहुल गांधी, 22 नवंबर को कांग्रेस के लिए करेंगे प्रचार

सिंह ने छात्रों से बात की। छात्रा के टूटे हुए हाथ की मेडिकल रिपोर्ट भी देखी। उन्होंने कहा कि बच्ची का सही तरीके से इलाज करवाया जाएगा। जांच टीम ने मामले की गंभीर बताया और कहा कि अगर आरोप सही पाए जाते हैं तो कार्रवाई की जाएगी।