हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मेन गेट और बॉउंड्री वाल पर लगे मिले खालिस्तानी झंडे, सुरक्षा पर उठे सवाल

पलिस ने कहा कि इस घटना के पीछे पंजाब के पर्यटकों का हाथ हो सकता है, विधानसभा परिसर में नहीं लगे हैं सीसीटीवी कैमरे, पुलिस आज दर्ज करेगी केस 

Publish: May 08, 2022, 10:31 AM IST

हिमाचल प्रदेश विधानसभा के मेन गेट और बॉउंड्री वाल पर लगे मिले खालिस्तानी झंडे, सुरक्षा पर उठे सवाल

 नई दिल्ली। 
हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला स्थित विधानसभा के गेट और बॉउंड्री वॉल पर खालिस्तानी झंडे मिले हैं। इन झंडों को विधानसभा के गेट पर बंधा हुआ पाया गया। धर्मशाला के तपोवन स्थित विधानसभा सिद्धबाड़ी के मुख्य प्रवेश द्वार पर रविवार सुबह खालिस्तान समर्थक झंडे लगे होने की खबर मिलने के बाद हड़कंप मच गया। खबर मिलने के बाद आनन फानन में पुलिस ने इन झंडों को गेट और विधानसभा की चारदीवारी से हटा दिया है। मौके पर पहुंची पुलिस ने कहा कि झंडे लगाने की ये घटना शनिवार देर रात या रविवार की सुबह हुई होगी। कांगड़ा के पुलिस अधीक्षक कुशल शर्मा ने कहा है कि ये पंजाब के पर्यटकों की हरकत हो सकती है। इस मामले में आज ही केस दर्ज किया जाएगा। 

घटना का पता तब चला जब सुबह की सैर पर निकले लोगों ने खालिस्तानी झंडे विधानसभा की गेट और दीवारों पर लगे देखे। इन झंडों पर पंजाबी में खालिस्तान लिखा हुआ था। विधानसभा की गेट पर खालिस्तान समर्थक झंडे लगने की घटना सामने आने के बाद सुरक्षा एजेंसियों पर सवाल उठने लगे हैं। यहाँ कोई सीसीटीवी कैमरा भी नहीं लगा है।  जिससे इस घटना का फुटेज भी पुलिस को नहीं मिल सका है। खालिस्तानी झंडे लगने की घटना के बाद पुलिस इस मामले की जाँच में जुट गई है। 

दरअसल ख़ुफ़िया विभाग ने 26 मार्च को ही एक अलर्ट जारी किया था। जिसमे कहा गया था कि खालिस्तानी संगठन सिख फॉर जस्टिस के प्रमुख ने एक लेटर जारी कर प्रदेश के मुख्यमंत्री  को धमकी देते हुए कहा है कि वो शिमला में भिंडरवाला और खालिस्तान का झंडा फहराएगा। ये संगठन हिमाचल में भिंडरवाला और खालिस्तानी झंडे लगी गाड़ियों पर बैन से नाराज था।