डिप्टी स्पीकर ने खारिज किया शिंदे गुट का प्रस्ताव, मुंबई में धारा 144 लागू, बढ़ाई गई शिंदे के आवास की सुरक्षा

सड़कों पर पहुंचा महाराष्ट्र का सियासी संग्राम, गुस्साए शिवसैनिक कर रहे बागियों के दफ्तर पर हमला, डिप्टी स्पीकर ने खारिज कर दिया अविश्वास प्रस्ताव, सुप्रीम कोर्ट जाएंगे एकनाथ शिंदे, मुंबई में हिंसा की आशंका देख धारा 144 लागू

Updated: Jun 25, 2022, 03:01 PM IST

डिप्टी स्पीकर ने खारिज किया शिंदे गुट का प्रस्ताव, मुंबई में धारा 144 लागू, बढ़ाई गई शिंदे के आवास की सुरक्षा

मुंबई। महाराष्ट्र का सियासी संग्राम अब सड़कों तक पहुंच गया है। बगावत से नाराज शिवसैनिकों ने बागी विधायकों के दफ्तरों पर हमला शुरू कर दिया है। शिवसेना कार्यकर्ता लगातार कह रहे हैं की किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा। हिंसा के आसार के बीच राजधानी मुंबई में धारा 144 लगा दी गई है। 

कुर्सी की यह लड़ाई अब कानूनी दांव-पेंच में उलझ गई है। डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल ने शिंदे गुट का अविश्वास प्रस्ताव खारिज कर दिया है। इससे बागी गुट को बड़ा झटका लगा है। बताया जा रहा है की एकनाथ शिंदे गुट अब इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का रुख करेगा।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे महाविकास अघाड़ी सरकार और पार्टी को बचाने की तमाम कोशिशें कर रहे हैं। शिवसेना भवन में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक शुरू हो गई है। सीएम उद्धव ठाकरे बीमारी के बावजूद मोर्चा संभाले हुए हैं। 

शिवसैनिकों का गुस्सा देखते हुए मुंबई समेत सभी जिले में पुलिस ने हाई अलर्ट जारी किया है। सभी पुलिस थानों से राजनीतिक कार्यालयों में सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा है। यह निर्देश दिया गया है कि अधिकारी स्तर के पुलिस कर्मी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रत्येक राजनीतिक कार्यालय का दौरा करें। 

यह भी पढ़ें: शिवसैनिक सड़कों पर उतरे तो आग लग जाएगी, महाराष्ट्र में हिंसा की आशंका के बीच बोले संजय राउत

महाविकास आघाड़ी के नेताओं का भी मानना है कि अगर शिवसैनिकों को हिंसा फैलाने से नियंत्रित नहीं किया गया, तो यह केंद्र को एक मौका देगा कि वह राष्ट्रपति शासन की सिफारिश करे। ऐसे में सीएम उद्धव ठाकरे भी यही चाहते हैं कि सड़कों पर हिंसा न हो। लेकिन संजय राउत के एक बयान जिसमें उन्होंने कहा था कि शिवसेना आग है, हाथ लगाने वाले जल जाएंगे। इसके बाद ही पुणे में तनाजी सावंत के दफ्तर पर शिव सैनिकों ने धावा बोल दिया।