शिवसैनिक सड़कों पर उतरे तो आग लग जाएगी, महाराष्ट्र में हिंसा की आशंका के बीच बोले संजय राउत

पुणे में शिवसेना कार्यकर्ताओं ने बागी विधायक तानाजी सावंत के कार्यालय में की तोड़फोड़, शिवसैनिक बोले- किसी को भी बख्शा नहीं जाएगा, संजय राउत बोले- लोगों का धैर्य कमजोर होता जा रहा है

Updated: Jun 25, 2022, 02:40 PM IST

शिवसैनिक सड़कों पर उतरे तो आग लग जाएगी, महाराष्ट्र में हिंसा की आशंका के बीच बोले संजय राउत

मुंबई। महाराष्ट्र में सियासी घमासान के बीच अब शिवसैनिकों को नियंत्रण में रखना मुश्किल होता जा रहा है। शिवसेना के कार्यकर्ताओं में इस बगावत की खबर से उबाल है। उद्धव ठाकरे और अन्य नेताओं की अपील के बावजूद जहां-तहां शिवसैनिकों का गुस्सा देखने को मिल रहा है। वे बागी विधायकों के दफ्तरों पर हमले कर रहे हैं। इसी बीच संजय राउत ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि अभी शिवसैनिक सड़कों पर उतरे नहीं हैं, अगर सड़कों पर आ गए तो आग लग जाएगी।

दरअसल, शनिवार को पुणे में शिवसेना के कार्यकर्ताओं ने बागी विधायक तानाजी सावंत के दफ्तर पर जमकर तोड़फोड़ की। इसके बाद शिवसेना के पुणे शहर प्रमुख संजय मोरे ने स्वीकार किया कि हमारी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने तानाजी सावंत के कार्यालय में तोड़फोड़ की।उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि, 'हमारे प्रमुख उद्धव ठाकरे को परेशान करने वाले सभी देशद्रोही और बागी विधायकों को इस प्रकार की कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा। उनके कार्यालयों पर भी हमला होगा। किसी को बख्शा नहीं जाएगा।'

यह भी पढ़ें: जो जाना चाहते हैं जाएं, मैं नई शिवसेना बनाऊंगा, बागी MLAs को उद्धव ठाकरे का संदेश

उधर एकनाथ शिंदे ने राज्य के गृह मंत्री और डीजीपी को पत्र लिखकर आरोप लगाया है कि 38 विधायकों के परिवारों के सदस्यों की सुरक्षा को वापस लिया गया है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि अगर उनके परिवारों को कुछ होता है, तो उसके लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, शरद पवार, संजय राऊत और आदित्य ठाकरे जिम्मेदार होंगे। इसपर महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि न तो मुख्यमंत्री और न ही गृह विभाग ने किसी विधायक की सुरक्षा वापस लेने के आदेश दिए हैं। ट्विटर पर महज दुष्प्रचार फैलाया जा रहा है।

इसे पूरे मामले पर मीडिया से बातचीत करते हुए संजय राउत ने कहा कि, 'वे तो महाराष्ट्र के बाहर हैं, चील हैं। लेकिन यहां लोगों का धैर्य कमजोर होता जा रहा है। अभी शिवसैनिक सड़कों पर नहीं उतरे हैं। ऐसा हुआ तो सड़कों पर आग लग जाएगी। कल रात हमें 10 विधायकों का फोन आया। सदन के पटल पर आओ, और हम जानेंगे कौन है मजबूत। हमें यकीन है कि एक बार (बागी) विधायक मुंबई वापस आ जाएंगे, वे फिर से हमारे पक्ष में लौट आएंगे।'

संजय राउत ने पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस को चेतावनी देते हुए कहा कि वे इस झमेले से दूर रहें। उन्होंने कहा, 'मैं देवेंद्र फडणवीस को सलाह दूंगा कि इस मामले में शामिल न हों, और जो कुछ भी उनकी गरिमा के लिए बचा है, उसे बचाएं। हम चुनाव में एक-दूसरे को देखेंगे। वह इस झमेले से बाहर रहें, नहीं तो फंस जाएंगे।'

यह भी पढ़ें: अग्निवीरों के लिए वरुण गांधी ने की पेंशन छोड़ने की पेशकश, सभी सांसद-विधायकों से भी की अपील

राउत ने आगे कहा कि, 'महाराष्ट्र विधानसभा के फ्लोर पर आइए, देखते हैं किसमें कितना दम है। मैं हवा में कोई बात नहीं करता। जो उद्धव जी कहते हैं, मैं वही कहता हूं। जो बगावत कर रहे हैं, वे अपनी विधायकी बचाएं। हमने किसी की सुरक्षा नहीं हटाई है, लोगो में गुस्सा है। यह पार्टी हमारे खून से बनी है। यूंही कोई हाईजैक नहीं कर सकता। कोई इस पार्टी को पैसे के दम पर खत्म नहीं कर सकता।'

उधर एकनाथ शिंदे ग्रुप की आज दोपहर 2 बजे बैठक होगी। बैठक में आगे की रणनीति पर चर्चा की जाएगी। बताया जा रहा है कि मीडिया से संवाद करने के लिए प्रवक्ताओं का एक ग्रुप भी बनाया जाएगा। इसी बीच गुवाहाटी में निवासरत विधायकों पर सवाल उठाते हुए NCP के मुख्य प्रवक्ता महेश तापसे ने कहा, सूरत और गुवाहाटी के होटलों के साथ-साथ चार्टर्ड फ्लाइट के बिलों का भुगतान कौन कर रहा है? क्या यह सच है कि हॉर्स ट्रेडिंग रेट 50 करोड़ रुपये है? ईडी और आईटी सक्रिय हुए तो काले धन के स्रोत का खुलासा हो जाएगा।