कब तक छुपोगे गुवाहाटी में, आना ही पड़ेगा चौपाटी में, संजय राउत का बागी विधायकों को चैलेंज

शिवसेना नेता संजय राउत ने विधानसभा उपाध्यक्ष नरहरि जिरवाल की एक तस्वीर लगाकर संदेश दिया है कि बागियों को आज न कल तो मुंबई ही आना पड़ेगा

Updated: Jun 26, 2022, 10:48 AM IST

कब तक छुपोगे गुवाहाटी में, आना ही पड़ेगा चौपाटी में, संजय राउत का बागी विधायकों को चैलेंज

मुंबई। महाराष्ट्र में चल रहे सियासी संग्राम का आज छठवां दिन है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने सुबह ट्वीट कर एकनाथ शिंदे और बागी विधायकों पर निशाना साधा। राउत ने लिखा "कब तक छिपोगे गुवाहाटी में, आना ही पड़ेगा चौपाटी में।" अपने ट्वीट के साथ उन्होंने विधानसभा उपाध्यक्ष नरहरि जिरवाल की एक तस्वीर भी लगाई है।

दरअसल, महाराष्ट्र ने सत्ता की लड़ाई कानूनी दांव पेंच में उलझी हुई है और कई मोर्चों पर लड़ी जा रही है। विधानसभा के डिप्टी स्पीकर नरहरि जिरवाल ने शनिवार को शिंदे गुट का प्रस्ताव खारिज कर दिया। इतना ही नहीं बागियों को अयोग्य घोषित करने की शिवसेना की याचिका पर एकनाथ शिंदे समेत 16 बागी विधायकों को समन जारी कर जवाब मांगा है। शनिवार को जारी किए गए समन में बागियों से 27 जून की शाम तक लिखित जवाब देने को कहा है।

यह भी पढ़ें: हरे भरे जंगलों में ही हो आदिवासियों का विस्थापन, दिग्विजय सिंह ने की विस्थापन नीति में बदलाव की मांग

संजय राउत ने इस पूरे प्रकरण को लेकर सामना में अपने साप्ताहिक कॉलम में कहा है कि शिंदे और 40 विधायकों की बगावत का मतलब भूकंप नहीं है। ऐसे कई भूकंप के झटकों से गुजरने के बावजूद शिवसेना का अस्तित्व बरकरार रहा है। इस ड्रामे के असली सूत्रधार भाजपा के निर्देशक हैं। पांचवें दिन शनिवार को शिवसेना की हाईलेवल मीटिंग हुई। उद्धव ने शिंदे पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा- शिंदे पहले नाथ थे, लेकिन अब दास हो गए हैं।

देर शाम एकनाथ शिंदे ने अपने सोशल मीडिया पर लिखा कि, "प्रिय शिवसैनिकों... अच्छी तरह से समझें, महा विकास अघाड़ी (MVA) के खेल को पहचानो..! मैं शिवसेना और शिवसैनिकों को MVA के अजगर के चंगुल से मुक्त कराने के लिए संघर्ष कर रहा हूं। यह लड़ाई आप शिवसैनिकों के फायदे के लिए है।"