उत्तर पूर्वी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में बोले पीएम, बिना मास्क के भारी भीड़ उमड़ना ठीक नहीं

उत्तर पूर्वी राज्यों में लगातार कोरोना का संक्रमण दर बढ़ रहा है, इसी संबंध में आज प्रधानमंत्री ने उत्तर पूर्वी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की, बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी मौजूद रहे

Updated: Jul 13, 2021, 03:27 PM IST

उत्तर पूर्वी राज्यों के  मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक में बोले पीएम, बिना मास्क के भारी भीड़ उमड़ना ठीक नहीं

नई दिल्ली। उत्तर पूर्वी राज्यों में कोरोना से बेकाबू होते हालात पर आज प्रधानमंत्री मोदी ने 8 राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल बैठक की। प्रधानमंत्री के साथ हुई इस बैठक में असम, त्रिपुरा, मेघालय, मणिपुर, सिक्किम,अरुणचाल प्रदेश,मिज़ोरम और नागालैंड के मुख्यमंत्री शामिल हुए। बैठक में गृह मंत्री अमित शाह भी शामिल थे। बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना को लेकर लगातार बरती जा रही लापरवाही पर अपनी चिंता ज़ाहिर की। 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हिल स्टेशंस और मार्केट में जिस तरह से बिना मास्क के साथ भारी भीड़ उमड़ रही है, वह ठीक नहीं है। मोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि ये सही है कि कोरोना की वजह से टूरिज्म, व्यापार-कारोबार बहुत प्रभावित हुआ है।लेकिन आज मैं बहुत जोर देकर कहूंगा कि हिल स्टेशंस में, मार्केट्स में बिना मास्क पहने, भारी भीड़ उमड़ना ठीक नहीं है।' 

यह भी पढ़ें : देश भर के 58 जिलों में दस फीसदी से ज्यादा है पॉजिटिविटी रेट, नॉर्थ ईस्ट के 37 ज़िले शामिल

हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार लाने की है ज़रूरत 
प्रधानमंत्री मोदी ने बातचीत के दौरान टेस्टिंग और स्वास्थ्य के इंफ्रास्ट्रक्चर को सुधारे जाने पर भी ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमें टेस्टिंग और ट्रीटमेंट से जुड़े इंफ्रास्ट्रक्चर में सुधार करते हुए आगे चलना है।इसके लिए हाल ही में कैबिनेट ने 23 हज़ार करोड़ रुपए का एक नया पैकेज भी स्वीकृत किया है।नॉर्थ ईस्ट के हर राज्य को इस पैकेज से अपने हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को मज़बूत करने में मदद मिलेगी।' 

दरअसल उत्तर पूर्वी राज्यों में लगतार कोरोना अपने पैर पसारते जा रहा है। बीते हफ्ते में देश भर के कुल 58 ज़िले ऐसे हैं जहाँ पाजिटिविटी रेट दस फीसदी से अधिक दर्ज की गई है। चिंताजनक बात यह है कि इन 58 ज़िलों में से 37 ज़िले उत्तर पूर्वी राज्यों के हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी ने आज उत्तर पूर्वी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक बुलाई थी।  

यह भी पढ़ें : अलग अलग वैक्सीन की डोज लेना हो सकता है घातक, WHO की चीफ साइंटिस्ट ने दी चेतावनी

हमें वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को तेज़ करते रहना होगा 
बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने टेस्टिंग में तेज़ी लाने के साथ साथ वैक्सीनेशन की प्रक्रिया को भी तेज़ करते रहने की बात कही। मोदी ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा चलाए जा रहे ‘सबको वैक्सीन-मुफ्त वैक्सीन’ अभियान की नॉर्थ ईस्ट में भी उतनी ही अहमियत है।तीसरी लहर से मुकाबले के लिए हमें वैक्सीनेशन की प्रक्रिया तेज़ करते रहना है।' 

 यह भी पढ़ें : टीकाकरण के दैनिक औसत में आई भारी गिरावट, 3 हफ्तों में 27 लाख टीकों तक घटी दैनिक औसत

भारत में इस समय वैक्सीनेशन की दैनिक औसत में लगतार गिरावट देखी जा रही है। 21 जून से 27 जून के बीच देश में प्रत्येक दिन के हिसाब से औसतन 61.14 लाख लोगों को टीके की खुराक दी गई। लेकिन बीते हफ्ते 4 जुलाई से 11 जुलाई के दरमियान यह आंकड़ा 34.32 लाख की औसत पर  पहुँच गया है। टीकाकरण में गिरावट भाजपा शासित कर्नाटक, गुजरात और हरियाणा जैसे राज्यों में दर्ज की गई है। जबकि ओडिशा में 30 में से 24 ज़िलों में वैक्सीन का स्टॉक ही खत्म हो गया है।