चेयर पर हुआ हमला, माफी मांगे विपक्ष, संसद में हुए हंगामे को लेकर सरकार के बचाव में 8 मंत्रियों ने संभाला मोर्चा

संसद की कार्यवाही स्थगित होने और महिला सांसदों के साथ हुई बदसलूकी के खिलाफ विपक्ष का पैदल मार्च, सरकार के बचाव में आठ केंद्रीय मंत्रियों ने किया प्रेस कॉन्फ्रेंस

Updated: Aug 12, 2021, 04:13 PM IST

चेयर पर हुआ हमला, माफी मांगे विपक्ष, संसद में हुए हंगामे को लेकर सरकार के बचाव में 8 मंत्रियों ने संभाला मोर्चा
Photo Courtesy : NDTV

नई दिल्ली। संसद का मॉनसून सत्र अचानक दो दिन पहले ही खत्म करने के बाद सत्ता पक्ष अब इसके लिए भी विपक्ष को जिम्मेदार ठहरा रही है। संसद में विपक्ष की मांगों को दरकिनार किए जाने के बाद एक ओर आज जहां विपक्ष मोदी सरकार के खिलाफ सड़क पर उतर आया, वहीं केंद्र सरकार ने अपने आठ मंत्रियों को सरकार के बचाव में प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए भेज दिया। केंद्रीय मंत्रियों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान विपक्ष से मांफी मांगने को कहा और चेयर पर हमला करने का आरोप भी लगाया।

राजधानी दिल्ली स्थित पत्र सूचना कार्यालय में आयोजित इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में पीयूष गोयल, अर्जुन मेघवाल, धर्मेंद्र प्रधान, भूपेंद्र यादव, वी मुरलीधरन, अनुराग ठाकुर, मुख्तार अब्बास नकवी और प्रह्लाद जोशी मौजूद थे। कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि, 'विपक्ष को ना तो जनता के हित, ना ही टैक्सपेयर के पैसे की और ना ही संवैधानिक मूल्यों की फिक्र थी। जो हुआ वह शर्मसार करने वाला था। विपक्ष घड़ियाली आंसू बहाने की जगह देश से माफी मांगे।'

यह भी पढ़ें: ट्विटर ने राहुल गांधी के बाद कांग्रेस के ऑफिसियल हैंडल समेत कई बड़े नेताओं का अकाउंट लॉक किया

विपक्षी सांसदों ने शीशा तोड़ने की कोशिश की- प्रह्लाद जोशी

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने आरोप लगाया कि विपक्षी सांसदों ने शीशे तोड़ने की कोशिशें की थी। जोशी ने कहा, 'मॉनसून सत्र के पहले दिन से ही विपक्ष का बर्ताव गलत था। वे संसद को चलने नहीं देना चाहते थे। उन्होंने शीशा तोड़ने की भी कोशिश की। हमने कई बार निवेदन किया, लेकिन वे नहीं माने। इस तरह से उपद्रव करने के बाद वे सोच रहे हैं कि जैसे किसी स्वतंत्रता सेनानी जैसा काम उन्होंने किया है। इससे पता चलता है कि आखिर उनकी सोच क्या है।' उन्होंने विपक्षी सांसदों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की है।

चेयर पर हुआ कातिलाना हमला- पीयूष गोयल

इस दौरान पीयूष गोयल ने कहा कि राज्यसभा में चेयर पर कातिलाना हमला किया गया। उन्होंने कहा, 'विपक्ष के सांसदों ने बेंचों पर खड़े होकर हंगामा किया। एक सांसद ने तो रूल बुक ही चेयर पर फेंक दी थी। यदि उस समय कोई चेयर पर होता तो न सिर्फ कोई घायल होता बल्कि कुछ भी हो सकता था। यह एक तरह का कातिलाना हमला था। विपक्ष के सांसदों ने एक महिला मार्शल पर भी हमला कर दिया। उनकी मंशा सदन की गरिमा गिराने की रही है। अब विपक्ष नाटक कर रहा है और उलटे प्रदर्शन कर रहा है।'

यह भी पढ़ें: देश की 60 फीसदी आबादी की आवाज़ दबा रही है मोदी सरकार, पैदल मार्च के बाद राहुल गांधी ने बोला हमला

दरअसल, संसद में जन सरोकार से जुड़े मुद्दों पर चर्चा किए बगैर मॉनसून सत्र को समाप्त करने के मुद्दे पर विपक्ष मोदी सरकार का विरोध कर रहा है। आज 15 विपक्षी दल के नेता राहुल गांधी की अगुवाई में पैदल मार्च में शामिल हुए। पैदल मार्च के बाद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि सरकार देश की 60 फीसदी आबादी की आवाज़ दबाने का काम कर रही है। अब विपक्षी दल के नेता राज्यसभा के सभापति वैंकैया नायडू ने मिलने की तैयारी कर रहे हैं।