Rahul Gandhi : सच के लिए लड़ने वालों को डराया नहीं जा सकता

गांधी परिवार से जुड़े तीन ट्रस्टों की जांच, राहुल गांधी ने कहा सच्चाई के लिए लड़ने वालों की कीमत नहीं होती

Publish: Jul-09, 2020, 01:09 AM IST

Rahul Gandhi : सच के लिए लड़ने वालों को डराया नहीं जा सकता
source: dhaka tribune

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राजीव गांधी फाउंडेशन द्वारा कानूनों के उल्लंघन मामले में जांच के लिए एक अंतर-मंत्रालयी समिति गठित की है। इस समिति की जांच के दायरे में राजीव गांधी चैरिटेबल ट्रस्ट और इंदिरा गांधी मेमोरियल ट्रस्ट भी होंगे। इसके बाद कांग्रेस सांसद राहुल गाँधी ने प्रधानमंत्री को जवाब देते हुए कहा है कि सच्चाई के लिए लड़ने वाले लोगों को कभी डराया नहीं जा सकता। राहुल गाँधी ने ट्वीट कर कहा है कि 'मोदी कभी यह बात नहीं समझ पाएंगे कि जो लोग सच्चाई के लिए लड़ते हैं, उनकी न तो कोई कीमत होती है और न ही उन्हें डराया जा सकता है। 

दुनिया मोदी जैसी नहीं 
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी ने कांग्रेस पार्टी से जुड़े ट्रस्टों की फंडिंग की जांच करने के लिए बनाई गई समिति को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसते हुए कहा है कि दुनिया मोदी जैसी नहीं है।

 

राहुल ने कहा है कि ' मोदी समझते हैं कि दुनिया उनकी उनकी जैसी है।जहाँ हर एक व्यक्ति की कीमत होती है और उसे डराया जा सकता है। लेकिन यह सच्चाई नहीं है। दुनिया मोदी जैसी नहीं है। 

राहुल गाँधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसने की वजह गृह मंत्रालय का वो निर्णय है जिसमें मंत्रालय ने कांग्रेस से जुड़े ट्रस्टों की जांच के लिए समिति बनाई है। यह समिति पीएमएलए, आयकर अधिनियम, एफसीआरए आदि के विभिन्न कानूनी प्रावधानों के नियमों के उल्लंघन की जांच करेगी। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के विशेष निदेशक समिति का जिम्मा संभालेंगे।

केंद्र सरकार जांच क्यों करवा रही है ? 
केंद्र सरकार द्वारा तीनों ही ट्रस्टों की फंडिंग को लेकर जांच करवाने की वजह पिछले एक महीने से कांग्रेस पार्टी और बीजेपी के बीच चले आ रहे गतिरोध को माना जा रहा है। दरअसल, भारत चीन के बीच संघर्ष के बीच बीजेपी और कांग्रेस, दोनों ही पार्टियां एक दुसरे के खिलाफ चीन से लेकर सबंधों को लेकर आरोप लगाने लगीं। इसी बीच बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने प्रधानमंत्री राहत कोष के पैसों को राजीव गाँधी फाउंडेशन में जमा करने का आरोप लगाया था। इसके साथ ही नड्डा ने मेहुल चौकसे और चीनी दूतावास द्वारा राजीव गाँधी फॉउंडेशन को डोनेशन दिए जाने का आरोप लगाया था। केंद्र की बीजेपी सरकार ने इसी सिलसिले में जांच समिति का गठन किया है।   
  
कांग्रेस आरोपों का जवाब पहले ही दे चुकी है 
बीजेपी द्वारा राजीव गाँधी फाउंडेशन को लेकर लगाए गए आरोपों का जवाब कांग्रेस पहले ही दे चुकी है।कांग्रेस ने नड्डा द्वारा पूछे गए सवालों पर कहा था कि 2005 में प्रधानमंत्री राहत कोष द्वारा राजीव गांधी फाउंडेशन को दी गई दस लाख की धनराशि, अंडमान निकोबार में आई सुनामी के राहत कार्यों में मदद के लिए खर्च की गई। कांग्रेस ने मेहुल चौकसे से ली गई डोनेशन पर कहा था कि 2013 में नविराज एस्टेट्स द्वारा राजीव गांधी फाउंडेशन को दस लाख रुपए की राशि दी गई थी।तो वहीं फाउंडेशन को चीनी दूतावास से मिले डेढ़ करोड़ के चंदे की बात स्वीकारते हुए कांग्रेस ने कहा था कि इसकी जानकारी सरकारी एजेंसी को पहले ही विधिवत तरीके से दी जा चुकी है।